भारत मोबाइल फोन निर्यातक बना

भारत मोबाइल फोन निर्यातक बना

पुणे [ महामीडिया ]मोबाइल फोन व्यापार का आंकड़ा कहता है कि भारत पहली बार इस कमोडिटी का शुद्ध निर्यातक बन गया है।अब तक भारत में मोबाइल फोन का आयात इसके निर्यात से हमेशा अधिक था।वित्त वर्ष 2019-20 में भारत ने 41.5 मिलियन (4.15 करोड़) फोन निर्यात किए और 5.6 मिलियन (56 लाख) फोन आयात किए।यानी भारत ने 36 मिलियन (3.60 करोड़) यूनिट का शुद्ध निर्यात किया।लेकिन क्या इसका मलतब यह लगाया जाए कि आने वाले दिनों में चीनी प्लेयर्स भारतीय बाजार से बाजार होने जा रहे हैं?मोबाइल फोन के ज्यादा निर्यात का मतलब यह नहीं है कि उनका यहां पूरी तरह से उत्पादन हो रहा है।देश में मोबाइल फोन मैन्यूफैक्चरिंग इकाइयां 2014 में सिर्फ दो थीं जो 2018 में बढ़कर 268 हो गई हैं।लेकिन आंकड़े खंगालने से पता चलता है कि सेलफोन भारत में बनने से ज्यादा यहां असेंबल होते हैंइतनी बड़ी संख्या में कारखानों के होने के बावजूद भारत में मोबाइल फोन विनिर्माण का औसत मुश्किल से 10 प्रतिशत रहा है।2017 में सरकार ने एक चरणबद्ध विनिर्माण कार्यक्रम शुरू किया, जिसके तहत मोबाइल पार्ट्स के लोकल सोर्सिंग को प्रोत्साहित किया जाता है।इसके तहत चार्जर, माइक्रोफोन, फोन कैमरा आदि उत्पादों का आयात करने पर कस्टम ड्यूटी देनी होगी, लेकिन इनके निर्माण के लिए जरूरी पार्ट्स मंगाने पर कस्टम ड्यूटी नहीं देनी होगी।
 

सम्बंधित ख़बरें