अब छोटे शहर वालों को भी घर बैठे मिलेगी बीपीओ क्षेत्र की बड़ी कंपनियों में लाखों की नौकरी

अब छोटे शहर वालों को भी घर बैठे मिलेगी बीपीओ क्षेत्र की बड़ी कंपनियों में लाखों की नौकरी

भोपाल (महामीडिया) सरकार ने कोरोना महामारी को देखते हुए इस महीने बीपीओ और आईटी आधारित सेवाएं देने वाली कंपनियों के लिए दिशानिर्देश को आसान किया था। अब इन सेवाओं में काम करने वाले कर्मचारी ‘घर से काम’ या ‘कही से काम’ सकेंगे। सरकार की दिशानिर्देश के बाद कंपनियों ने इस तरह के माहौल में ढ़लने का काम शुरू कर दिया है। सरकार के इस कदम से अब कंपनियों के लिए भौगौलिक सीमा का नियम खत्म हो जाएगा। जिससे कटनी और अनूपपुर जैसे  छोटे शहरों के युवाओं को भी दुनियां की टॉप कपंनियों में काम करने का अवसर मिल सकेगा।केवल विदेशी ही नहीं बल्कि देश की बड़ी कंपनियां भी अब अपने हायरिंग रणनीति बदल रही है। देश की बड़ी कंपनियों में शुमार हिन्दुजा ग्रुप की बीपीओ फर्म हिन्दुजा ग्लोबल सॉल्युशन ने अपनी हायरिंग रणनीति को बदलते हुए वर्क फ्रॉम एनीव्हेयर कर दिया है। कंपनी के इस फैसले से अब देश के छोटे शहरों के लोग भी अपने घर बैठे इस कंपनी में काम कर सकेंगे।बीपीओ क्षेत्र की बड़ी कंपनी WNS ग्लोबल सर्विसेज ने भी इसी रणनीति पर काम करना शुरू कर दिया है। इन कंपनियों का हब गुड़गांव, पूणे और नाासिक में हैं. लिहाजा कंपनियां माहाराष्ट्र के सुदूर इलाकों के टैलेंट को अब मौका दे रही हैं।सरकार के इस नियम से नौकरी ढूंढने वालों को तो फायदा मिल ही रहा है। वहीं कंपनियों की लागत भी कम हो रही है। दरअसल बड़े शहरों के मुकाबले छोटे शहरों खासकर टियर 3 सिटीज के लोगों को कंपनियों को कम सैलरी देना पड़ेगा क्योंकि इन शहरों का खर्च बड़े शहरों के मुकाबले कम होता है

सम्बंधित ख़बरें