टाटा टेली का बकाया 14,000 करोड़ रुपये चुकाने के लिए फंड तैयार कर रही है टाटा संस

टाटा टेली का बकाया 14,000 करोड़ रुपये चुकाने के लिए फंड तैयार कर रही है टाटा संस

नई दिल्ली [ महामीडिया ]टाटा समूह की होल्डिंग कंपनी टाटा संस सरकार को समायोजित सकल राजस्वबकाये के भुगतान की तैयारी कर रही है। टाटा संस की सहयोगी कंपनी टाटा टेलीसर्विसेज पर 14,000 करोड़ रुपये का बकाया है। कंपनी बैंकों तथा अपने आंतरिक स्रोतों से यह राशि जुटा रही है। उच्चतम न्यायालय ने इसके भुगतान के लिए 23 जनवरी की समयसीमा निर्धारित की है।टाटा टेली और उसकी सहयोगी कंपनी टाटा टेलीसर्विसेज (महाराष्ट्र) ने सरकार को भुगतान के लिए पहले ही प्रावधान कर लिया है। टाटा टेलीसर्विसेज (महाराष्ट्र) का एजीआर का बकाया 2,151 करोड़ रुपये है जबकि बाकी प्रावधान टाटा टेली ने किया है। दोनों कंपनियों का कुल एजीआर बकाया 13,823 करोड़ रुपये है। इनमें से 10,000 करोड़ रुपये टाटा संस बैंकों से जुटाएगी जब बाकी राशि आंतरिक संसाधनों से आएगी।टाटा टेली तीन महीने की समयसीमा खत्म होने से पहले इस बड़ी राशि नहीं जुटा सकती है, यही वजह है कि टाटा संस नकदी जुटा रही है। इस बारे में संपर्क करने पर टाटा संस के एक प्रवक्ता ने टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। टाटा समूह की दो कंपनियों के साथ दूसरी दूरसंचार कंपनियों ने भी उच्चतम न्यायालय में पुनर्विचार याचिकाएं दायर की हैं। टाटा संस ने पैसा तैयार रखने का फैसला किया है ताकि अगर न्यायालय पुनर्विचार याचिका खारिज कर देता है तो सरकार को समय पर भुगतान किया जा सके। उच्चतम न्यायालय ने पिछले साल 24 अक्टूबर के अपने फैसले में सभी दूरसंचार सेवा प्रदाता कंपनियों की अपील खारिज कर दी थी और एजीआर के बारे में दूरसंचार विभाग की परिभाषा को सही ठहराया था। भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया को सरकार को सबसे ज्यादा भुगतान करना है। न्यायालय के इस फैसले से वायरलेस कारोबार बंद कर चुकी टाटा टेली भी प्रभावित हुई है। यह पहला मौका नहीं है जब टाटा संस अपने दूरसंचार सेवा कारोबार की मदद के लिए आगे आई है। पिछले कुछ वर्षों में टाटा संस ने टाटा टेली में अतिरिक्त इक्विटी निवेश की है ताकि कंपनी बैंकों को ऋण का भुगतान कर सके। ग्रुप होल्डिंग कंपनी को संयुक्त उपक्रम में साझेदार एनटीटी डोकोमो से टाटा टेली के शेयरों की पुनर्खरीद भी करनी पड़ी। जापानी कंपनी ने संयुक्त उपक्रम में निवेश करते समय समझौते में यह शर्त रखी थी।

सम्बंधित ख़बरें