वीगनवाद की बढ़ती लोकप्रियता

भोपाल (महामीडिया) वीगनवाद, वेजीटेरियनिज़्म का एक चरम रूप है। वीगनवाद एक प्रकार का शाकाहारी भोजन है जिसमें मांस, अंडे, डेयरी उत्पादों और अन्य सभी जानवरों से प्राप्त सामग्री शामिल नहीं होते है। इसमें डेयरी और मांस-मुक्त आहार होता है,  जिसमें केवल फल, सब्जियां, नट्स, तेल, लसलसे पदार्थ होते हैं। लोग कई कारणों से वीगनवाद का इस्तेमाल कर रहे हैं। कई शाकाहारी ऐसे खाद्य पदार्थों का उपयोग भी नहीं करते जो जानवरों की मदद से प्रोसेस्ड किया जाता है जैसे कि परिष्कृत सफेद चीनी और कुछ वाइन।
शाकाहारी सोसायटी के संस्थापक डोनाल्ड वाटसन ने 1944 में शाकाहारियों, जिन्होंने डेयरी उत्पादों को खाया था, के खिलाफ एक बयान के बाद "वीगन" शब्द पहली बार उल्लेख किया था। उन्होंने वेजीटेरियन शब्द के पहले और आखरी अक्षर को लेकर वेजीटेरियनिज़्म का अपना ही रूढ़िवादी वर्ज़न बना दिया । दुनिया भर में 1 नवंबर को 'विश्व शाकाहारी दिवस' (वर्ल्ड वेगन डे) मनाया जाता है।
आम धारणा के विपरीत, वीगनवाद केवल आहार के माध्यम से शाकाहारी बने रहने तक ही खत्म नहीं हो जाता। इसका मतलब है कि जानवरों के उत्पादों से बनी हर चीज को छोड़ देना। चमड़े से लेकर रेशम और फर तक, अपने प्रभाव क्षेत्र का विस्तार करते हुए, वीगनवाद का दायरा शाकाहारी कॉस्मेटिक्स और उत्पादों तक पहुंच गया है जैसे टूथपेस्ट जिनमें शायद हड्डियों का पाउडर हो सकता है।
शाकाहारी भोजन को अपनाने वालों में एथलीटों और सेलेब्स की संख्या में भी काफी वृद्धि हुई है- विराट कोहली और सुनील छेत्री से लेकर श्रद्धा कपूर और कई अन्य इसमें शामिल हैं । अंतरराष्ट्रीय स्तर पर, एक वृत्तचित्र 'द गेम चेंजर्स' जो एलीट एथलीटों पर केंद्रित था जो शाकाहारी आहार का पालन करते हैं, जिसने स्वास्थ्य और फिटनेस के प्रति काफी हलचल पैदा कर दी थी।  जिसके बाद कई लोग प्लांट बेस्ड डाइट अपनाने के लिए प्रेरित हुए । भारत में वीगनवाद को बढ़ावा देने में सोशल मीडिया सक्रिय भूमिका निभा रहा है। वर्ष 2019 एक ऐसा वर्ष था जिसने भारत में कई तरह से वीगनवाद को बढ़ाया और विकसित किया। भारत का पहला शाकाहारी सम्मेलन 2019 में मुंबई में हो चुका है।
स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से, एक वीगन डाइट लोकप्रिय मिथकों के विपरीत सभी प्रकार का हो सकता है। जरुरी यह है कि पोषक तत्वों का सही संतुलन खोजे जाएं। जैसा कि ऊपर बताया गया है, एक वीगन डाइट में सभी पशु-आधारित खाद्य पदार्थों को बाहर रखा जाता है। शाकाहारी भोजन का पालन करने वाले लोगों को यह सुनिश्चित करने के लिए सावधानी बरतनी चाहिए कि वे अपनी पोषण संबंधी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए क्या खाते हैं। कुछ लोगों को सप्लीमेंट्स की आवश्यकता हो सकती है।
आप वीगन के रूप में क्या खा सकते हैं?
1. फल और सब्जियां।
2. फलियां जैसे मटर, सेम, और दाल ।
3. नट्स और बीज।
4. ब्रेड, चावल और पास्ता।
5. डेयरी विकल्प जैसे कि सोयामिल्क, नारियल का दूध और बादाम का दूध।
6. वनस्पति तेल।
कई स्वास्थ्य लाभों के अलावा, एक पौधा-आधारित आहार अधिक टिकाऊ होता है, क्योंकि यह मांस आधारित आहार की तुलना में पर्यावरण को कम नुकसान पहुंचाता है।

 

- प्रभाकर पुरंदरे

अन्य संपादकीय