योग, ध्यान और मधुर संगीत से शरीर को स्वस्थ रखें

21 जून का दिन भारत के लिए विशेष महत्व का है, क्योंकि इस दिन दुनियाभर में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता हैl इसी दिन विश्व संगीत दिवस (वर्ल्ड म्यूजिक डे) और वर्ल्ड फादर्स डे भी दुनियाभर में मनाया जाता हैl हम सब जानते हैं कि योग, ध्यान और मधुर संगीत न केवल हमें मानसिक शांति प्रदान करते हैं, बल्कि हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता और सकारत्मक ऊर्जा के स्तर को भी बढाते हैंl  अत: योग, ध्यान और संगीत का मेल जीवन के लिए आवश्यक हैl
योग हमारी पुरातन पारंपरिक अमूल्य देन हैl  यह स्वास्थ्य कल्याण का समग्र दृष्टिकोण हैl इसे शरीर और  और आत्मा के बीच समंज्यस्य का अद्भूत शास्त्र माना जाता हैl योग शास्त्र की उत्पत्ति हजारों साल पहले हुई थीl ऐसा माना जाता है कि जब से सभ्यता शुरू हुई है, तभी से योग किया जा राहा हैl योग मुख्यत:  संस्कृत का शब्द हैl इसकी उत्पत्ति रुग्वेद से हुई हैl इसकी सरल व्याख्या यही है कि यह वह शक्ति है जिससे हम अपने मन, मस्तिष्क और शरीर को एक सूत्र में पिरो सकते हैंl योग के नियमित अभ्यास से मांसपेशियों का अच्छा व्यायाम होता हैl  जिससे तनाव दूर होकर अच्छी निद्रा आती हैl भूख अच्छी लगती है और पाचन भी सही रहता हैl
आज कोरोना वायरस की इस महामारी के दौर में हर तरफ़ तनाव एवं अवसाद का वातावरण बना हैl ऐसे में नियमित और संतुलित आहार वाली दिनचर्या, योग, और ध्यान ही हमें स्वस्थ एवं ऊर्जावान रख सकता हैl इसी तरह संगीत वह जादू है जो मिनटो में आपके मूड को ठीक कर सकता हैl  आपको थिरकने पर विवश कर सकता हैl 
साइंटिफिक अध्ययन भी यही बताते हैं कि संगीत शरीर में तनाव के हर्मोन्स  के स्तर को कम करता है, वही योगासन के अंतर्गत ध्यान और प्राणयम के माध्यम से तनाव, ब्लडप्रेशर पर नियंत्रण, दिल की बीमारी का खतरा कम होता हैl मांसपेशियों के रिलेक्स होने से मन प्रसन रहता हैl हल्का मधुर संगीत सुनते हुए योग और ध्यान करने का विचार अति उत्तम हैl
विश्वभर में योग की लोकप्रियता का अन्दजा विभिन आंकडो के आधार पर लगाया जा सकता है कि इटली में 53 प्रतिशत से ज्यादा महिलाएं फिटनेस के लिए योग का अभ्यास करती हैं, नीदरलैंड्स में 30 प्रतिशत लोग मन-मस्तिष्क को स्वस्थ रखने के लिए योग अभ्यास करते हैं, पिछले चार सालों में अमेरिका में योग करने वालों की संख्या 50 प्रतिशत बढ गई , स्टडी यह भी बताती है कि यदि हम सप्ताह में दो-तीन दिन भी योग अभ्यास करते हैं तो अनिद्रा या स्लिपिंग डिसआर्डर जैसी समस्यायों से बचा जा सकता हैl
अत: योग और ध्यान को अपने जीवन नियमित शैली में लाए और शरीर और मन को स्वस्थ रखेंl
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर आप सभी को बधाई !

- प्रभाकर पुरंदरे

अन्य संपादकीय