दुनिया भर में शाकाहार

भोपाल (महामीडिया) पश्चिम में शाकाहार की जड़ें बहुत प्राचीन हैं । प्लूटार्क, पाइथागोरस, सेनेका और पोर्फिरियो सहित कई शुरुआती ग्रीक और रोमन दार्शनिकों ने देवताओं के लिए जानवरों की बलि से इन्कार करने और जीवित प्राणियों के सम्मान के रूप में मांस रहित आहार को स्वीकारा था। लोग कई कारणों से शाकाहार को अपना रहे हैं, जिनमें से कुछ धर्म, नैतिक प्रेरणा, स्वास्थ्य, पर्यावरण संरक्षण, आर्थिक कारक, मांस के प्रति अरुचि और संस्कृति शामिल हैं। जानकारी के अनुसार दुनिया में 375 मिलियन लोग शाकाहारी हैं।
भारत, दुनिया में शीर्ष स्थान पर है जहां कुल आबादी का 38% शाकाहारी हैं। देश में शाकाहार लैक्टो-शाकाहार से जुड़ा हुआ है, जहां लोग डेयरी उत्पाद खाते हैं, लेकिन अंडे नहीं। भारत में मांस की खपत भी बाकी दुनिया की अपेक्षा सबसे कम है। हालांकि, पश्चिम बंगाल और केरल जैसे तटीय राज्यों में मांस की खपत सामान्य  है। जैन समुदाय, लिंगायत, ब्राह्मण और वैष्णव समुदाय जैसे समुदायों में शाकाहार का प्रचलन है।
भारत के बाद,  इज़राइल ही ऐसा देश है जहाँ शाकाहारियों की आबादी 13 प्रतिशत है। इज़राइल में शाकाहार को बढ़ावा देने का श्रेय यहूदी धर्म को दिया जाता है, जो जानवरों की खपत को कम करता है। इज़राइल में शाकाहार धीरे-धीरे उन लोगों के लिए भी एक जीवन शैली की पसंद बनता जा रहा है जो गैर-धार्मिक के रूप में पहचान रखते हैं। 2014 में, तेल अवीव ने दुनिया में सबसे बड़े शाकाहारी उत्सव की मेजबानी की, जिसमें 15,000 लोग शामिल हुए। शहर को लगातार शाकाहारी यात्रियों के लिए पसंदीदा ठिकाने के रूप में स्थान दिया गया है।
शाकाहारियों की 12 प्रतिशत आबादी के साथ, ताइवान मांस प्रतिबंध के इस आंदोलन में भारत और इजरायल का सहभागी बन गया है। ताइवान में शाकाहारी भोजन से संबंधित सख्त खाद्य लेबलिंग कानून हैं। इस देश का एक खास आंदोलन है, जिसे "हर सप्ताह एक दिन शाकाहारी" के नाम से जाना जाता है, जिसे स्थानीय और राष्ट्रीय सरकार के समर्थन से खूब लाभ हुआ है।
यूरोप, इटली में शाकाहार की उच्चतम दर पूरी आबादी के 10% है। हाल के वर्षों में इटली में शाकाहारियों की संख्या बढ़ोतरी हुई है। 2016 में, ट्यूरिन शहर ने शाकाहार को बढ़ावा देने के लिए मांस-घटाने के एजेंडे का प्रस्ताव पारित किया ।
जर्मनी और ऑस्ट्रिया में 9 प्रतिशत आबादी शाकाहारी है। बहुत से जर्मन लोगों का संयंत्र-आधारित आहार के प्रति झुकाव बढ़ रहा है। पर्यावरण संरक्षण, पशु अधिकारों और कथित स्वास्थ्य लाभ के करण भी वे शाकाहार को अपनाना चाहते हैं। ऑस्ट्रिया में भी पसंदीदा लाइफस्टाइल के रूप में शाकाहार की लोकप्रियता में लगातार वृद्धि देखी गई है और विशेष रूप से पूरे वियना में कई शाकाहारी आउटलेट हैं। ब्रिटेन (9 प्रतिशत), ब्राज़ील (8 प्रतिशत), आयरलैंड (6 प्रतिशत) और ऑस्ट्रेलिया (5 प्रतिशत) में शाकाहारियों की आबादी है।
आजकल, प्लांट बेस्ड भोजन को ना केवल उचित पोषण के रूप में, बल्कि कई पुरानी बीमारियों के जोखिम को कम करने के तरीके के रूप में भी मान्यता प्राप्त है। अमेरिकन डाइटेटिक एसोसिएशन के अनुसार, "ठीक ढंग से शाकाहारी आहार की योजना बनाकर, जिसमे पूर्ण तरह से शाकाहारी या ‎वीगन डाइट को शामिल करना स्वास्थ्यप्रद, पोषक रूप से पर्याप्त होता है, और कुछ बीमारियों की रोकथाम और उपचार में स्वास्थ्य लाभ भी प्रदान कर सकता है ।"
इसलिए, यदि बेहतर स्वास्थ्य आपका लक्ष्य है, तो ही आप यह तय कर सकते हैं कि शाकाहारी भोजन आपके लिए सही है या नहीं।

- प्रभाकर पुरंदरे

अन्य संपादकीय