केंद्र ने राम मंदिर निर्माण ट्रस्ट बनाने की घोषड़ा की

केंद्र ने राम मंदिर निर्माण ट्रस्ट बनाने की घोषड़ा की

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज संसद में ऐलान किया कि उनकी कैबिनेट से राम मंदिर ट्रस्ट को मंजूरी मिल गई है। अयोध्या में राम मंदिर बनाने के लिए जो ट्रस्ट बनेगा उसका नाम 'राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट' होगा। इस दौरान उन्होंने कहा कि राम जन्मभूमि मेरे दिल के बहुत करीब। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के 87 दिन बाद इसकी रूपरेखा तैयार हो चुकी है। सूत्रों के मुताबिक, इस ट्रस्ट में महंत नृत्य गोपाल दास को बड़ी जिम्मेदारी मिल सकती है।
उन्होंने कहा, "सुबह केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में राम मंदिर को लेकर अहम फैसले लिए गए हैं। मेरी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के निर्देशानुसार श्रीराम जन्मस्थली पर भव्य मंदिर के निर्माण के लिए और इससे संबंधी अन्य विषयों के लिए एक विशाल योजना तैयार की है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक एक स्वायत्त ट्रस्ट श्रीरामजन्मभूमि के गठन का प्रस्ताव पारित किया गया है।"
पीएम मोदी ने लोकसभा में कहा, "9 नंवबर को अयोध्या पर फैसला आने के बाद देशवासियों ने परिपक्वता का परिचय दिया। मैं उनकी भूरि-भूरि प्रशंसा करता हूं। हमारी संस्कृति, हमारी परंपराएं और वसुधैव कुटुम्बकम का दर्शन देती है और आगे बढ़ने की प्रेरणा भी देती है।"
जानकारी के अनुसार, आदि शंकराचार्य द्वारा स्थापित चारों मठों के शंकराचार्य ट्रस्ट में शामिल हाेंगे। अयोध्या से महंत नृत्य गोपाल दास, दिगंबर अनी अखाड़े के महंत सुरेश दास, निर्मोही अखाड़े के महंत दीनेंद्र दास, गोरक्षपीठ गोरखपुर के प्रतिनिधि, कर्नाटक के उडुपी पेजावर मठ के प्रतिनिधि, विहिप से ओम प्रकाश सिंघल, उपाध्यक्ष चंपतराय, राम मंदिर आंदोलन को आमजन तक पहुंचाने वाले दिवंगत अशोक सिंघल के भतीजे सलिल, दिवंगत विष्णुहरि डालमिया के परिवार से पुनीत डालमिया, एक दलित प्रतिनिधि और एक महिला प्रतिनिधि ट्रस्ट में शामिल हाेंगी। केंद्र सरकार के प्रतिनिधि के रूप में संयुक्त सचिव स्तर के अधिकारी, प्रदेश सरकार के प्रतिनिधि के रूप में अयोध्या के डीएम काे भी ट्रस्ट में शामिल किया जा सकता है।

सम्बंधित ख़बरें