वैक्सीन सप्लाई रेस में भारत से हारने के बाद नरम पड़े चीन के तेवर

वैक्सीन सप्लाई रेस में भारत से हारने के बाद नरम पड़े चीन के तेवर

नईदिल्ली [ महामीडिया] चीन कोरोना वैक्सीन सप्लाई की रेस में भारत से हारता नजर आ रहा है। शुक्रवार को श्रीलंका में चीनी वैक्सीन के इस्तेमाल पर रोक लगाकर वहां भारतीय वैक्सीन के इस्तेमाल को हरी झंडी दिखाई गई। अब वहां 1.4 करोड़ लोगों के टीकाकरण के लिए भारत में निर्मित आक्सफोर्ड एस्ट्राजेनेका वैक्सीन का इस्तेमाल किया जाएगा। कोरोना वैक्सीन सप्लाई की रेस में भारत से एक बार फिर पिछड़ने के बाद चीन के सुर में नरमी आई है। चीन ने कई देशों को अधिक COVID-19 वैक्सीन की आपूर्ति करने वाले भारत का स्वागत किया है। लेकिन इसके साथ ही चीन अपनी झूठी शान छोड़ने को तैयार नहीं है। चीन ने कहा है कि वो ये मानने को बिल्कुल तैयार नहीं है कि वह कोरोना वैक्सीन सप्लाइ की रेस में भारत से हार गया है।एक सवाल के जवाब में कि क्या भारत ने वैक्सीन कूटनीति के अपने खेल में चीन को पछाड़ दिया है, चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने एक मीडिया ब्रीफिंग के दौरान कहा कि हम इसका स्वागत करते हैं और उम्मीद करते हैं कि दुनिया को वैक्सीन प्रदान करने के लिए और अधिक देश आगे आएंगे विशेष रूप से विकासशील देश ऐसा करने के लिए आगे आएंगे। हालांकि इस दौरान चीन ये मानने को बिल्कुल तैयार नहीं दिखा कि वैक्सीन सप्लाइ रेस में वह भारत से हार चुका है। 
 

सम्बंधित ख़बरें