जल्द ही धान की 80 साल पुरानी सात किस्में पेटेंट होंगी 

जल्द ही धान की 80 साल पुरानी सात किस्में पेटेंट होंगी 

भोपाल [महामीडिया] छतीसगढ़ के सम्मानित किसान राघवेंद्र सिंह ने धान की 80 साल पुरानी सात किस्मों को आज भी सहेजकर रखा है। उनके आवेदन पर बीजों को पेटेंट कराने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। बीज खराब न हो इसके लिए वे हर वर्ष दो से तीन एकड़ में इनकी खेती भी करते हैं। धान की किस्मों में बौना विष्णु भोग, लुचई, बादशाह भोग, दुबराज, तुलसी मंजरी, रामजीरा व रानी काजर शामिल हैं। पुराने बीजों को संरक्षित रखने की खबर भारत सरकार के पौधा किस्म और कृषक अधिकार संरक्षण प्राधिकरण तक पहुंच गई है। बीते दिनों कृषि विज्ञानियों की टीम किसान राघवेंद्र के गांव रिस्दा पहुँचकर अग्रिम प्रक्रिया शुरू कर चुकी है।

सम्बंधित ख़बरें