सुप्रीम कोर्ट की एक सराहनीय पहल

सुप्रीम कोर्ट की एक सराहनीय पहल

नईदिल्ली [महामीडिया] सुप्रीम कोर्ट ने संयुक्त विधि प्रवेश परीक्षा -2020 के आयोजन से कुछ घंटे पहले आज एक संदिग्ध कोविड-19 पॉजिटिव परीक्षार्थी को अलग कमरे में प्रवेश परीक्षा देने की अनुमति दी।क्लैट-2020 परीक्षा के माध्यम से 22 राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालयों  में एलएलबी, 5 वर्षीय एकीकृत एलएलबी और एलएलएम पाठ्यक्रमों में दाखिला होता है। परीक्षा आज दोपहर दो बजे शुरू होने वाली थी।न्यायमूर्ति अशोक भूषण की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा, ''वर्तमान मामले को ध्यान में रखते हुए, हम इस राय पर पहुंचे हैं कि छात्र दीपांशु त्रिपाठी को 28 सितंबर, 2020 को एक अलग पृथक कक्ष में क्लैट की परीक्षा देने की अनुमति दी जानी चाहिए। उसके केंद्र अधीक्षक को उसके लिए एक अलग कमरे की व्यवस्था करनी चाहिए। पीठ में न्यायमूर्ति आर सुभाष रेड्डी और एम आर शाह भी शामिल थे।

सम्बंधित ख़बरें