साल का तीसरा चंद्र ग्रहण कल

साल का तीसरा चंद्र ग्रहण कल

भोपाल (महामीडिया) साल का तीसरा चंद्र ग्रहण रविवार को लगने जा रह है. गुरु पूर्णिमा के दिन लगने वाला यह खास चंद्र ग्रहण 8 बजकर 38 मिनट से शुरू होगा और 11 बजकर 21 मिनट पर समाप्त होगा. चंद्र ग्रहण की अवधि 2 घंटे 43 मिनट होगी. यह एक उपछाया ग्रहण है, जिसमें सूतक काल मान्य नहीं होता है. आमतौर पर किसी भी ग्रहण के शुरू होने से 12 घंटे पहले सूतक काल लग जाता है, जिसमें कुछ खास बातों का ध्यान रखना बेहद जरूरी होता है.
चंद्र ग्रहण में नहीं करने चाहिए ये काम
1. ग्रहण को नग्न आंखों से देखने का भी परहेज करना चाहिए. ग्रहण के समय भोजन करने और बनाने दोनों से बचना चाहिए. ग्रहण के बाद स्नान करने से उसका प्रभाव कम हो जाता है.
2. चंद्र ग्रहण के बाद बासी खाना या रात का बचा हुआ भोजन नहीं करना चाहिए. ऐसा भोजन पशुओं को डाल दें. यदि घर में दूध से बनी चीजें रखी हैं तो उन्हें फेंकने की बजाए उनमें तुलसी के पत्ते डाल दें.
3. ग्रहण के समय गर्भवती महिलाओं को ग्रहण की छाया आदि से विशेष रूप से बचना चाहिए. क्योंकि ग्रहण की छाया का कुप्रभाव गर्भस्थ शिशु पर पड़ने का डर रहता है. इसके अलावा बुजुर्ग और पीड़ित व्यक्ति को भी बाहर जाने से परहे करना चाहिए.
4. सूतक काल लगने के बाद उपासना या देव दर्शन करना वर्जित माने जाते हैं. साथ ही इस ग्रहण काल की अवधि में लोगों को देवी-देवाओं की मूर्ति को स्पर्श करने से बचना चाहिए. हालांकि उपछाया चंद्र ग्रहण होने की वजह से इस बार सूतक नहीं लगेगा.
5. ग्रहण के समय देव पूजा को भी निषिद्ध बताया गया है. इसी कारण अनेक मंदिरों के कपाट ग्रहण के समय बंद कर दिए जाते हैं. ग्रहण के 12 घंटे से पूर्व ही सूतक लगने के कारण मंदिरों के पट भी बंद कर दिये जाते है.
 

सम्बंधित ख़बरें