कैसा होगा छुट्टियों के बाद स्कूलों का स्वरूप? http://www.mahamediaonline.com

कैसा होगा छुट्टियों के बाद स्कूलों का स्वरूप?

कोरोना के कारण अभी भले ही स्कूल बंद हो, लेकिन गर्मी की छुट्टियों के बाद जब देशभर में स्कूल खुलेंगे तब उनका स्वरूप कैसा होगा? बच्चों के साथ-साथ पेरेंट्स और स्कूल मैनेजमेंट को भी यही चिंता सता रही है। सवाल यह है कि लॉकडाउन के बाद अलग-अलग क्षेत्रों से जब बच्चे क्लास में इकठ्ठा होंगे तब उनकी बैठक व्यवस्था या "सोशल डिस्टेंसिंग' का क्या होगा? जाहिर है कि लॉकडाउन के बाद जब स्कूल खुलेंगे तब वहां कोरोना से बचाव के लिए कड़े इंतजाम दिखेंगे।
फिलहाल इसके तहत जो खास इंतजाम दिखेंगे उनमें दो गज दूरी का फॉर्मूला भी होगा। यानि क्लास में एक बेंच से दूसरे बेंच के बीच कम से कम दो गज की दूरी आवश्यक होगी। इसके साथ ही लैब और लाइब्रेरी जैसी जगहों पर भी एक बार में सिर्फ दस बच्चों को जाने की इजाजत होगी।
स्कूलोँ को कोरोना संकट के प्रभाव से बचने के लिए मानव संसाधन विकास मंत्रालय फिलहाल एनसीई  आरटी की गाइडलाइन को अंतिम रूप देने में जुटा है।  इसके साथ ही क्लासरूम में अब एक बेंच पर एक ही छात्र को बैठने की इजाजत मिलेगी। सीटों की अदला-बदली भी नहीं हो सकेगी।
प्रस्तावित नई गाइडलाइन के मुताबिक प्रत्येक क्लासरूम के बाहर सेनिटाईजर रखना जरूरी होगा। साथ ही स्कूल परिसर को हर दिन सेनिटाईज करना आवश्यक होगा। इसमें असेंबली परिसर और खेलकूद वाली जगह भी शामिल हैं।
 

सम्बंधित ख़बरें