औषधीय गुणों से भरपूर है अश्वगंधा

औषधीय गुणों से भरपूर है अश्वगंधा

नई दिल्ली (महामीडिया) प्रकृति ने हमें बहुत सी जड़ी बूटियों को वरदान के रूप में दिया है। इनमें से तो बहुत सारी जड़ी बूटियां ऐसी होती हैं जिनके गुणों को जाना तो दूर की बात हम उनका नाम तक नहीं जानते हैं। ये जड़ी-बूटियां हमारे शरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद होती हैं और साथ-साथ हैं इनका कोई नकारात्मक प्रभाव भी नहीं होता है। आज हम बात करेंगे अश्वगंधा की। यह औषधीय गुणों से भरपूर पादप होता है। अश्वगंधा का प्रयोग सदियों से आयुर्वेद में किया जाता रहा है। अश्वगंधा जहाँ शरीर को मजबूत करता है और वजन बढ़ाने में मदद करता है, आइए जानते हैं इससे होने वाले लाभों के बारे में... 
अश्वगंधा- औषधि के रूप में मुख्यत: अश्वगंधा की जड़ों का प्रयोग किया जाता है। प्रतिदिन अश्वगंधा के चूर्ण की एक-एक ग्राम मात्रा तीन बार लेने पर शरीर में हीमोग्लोबिन, लाल रक्त कणों की संख्या में काफी इजाफा होता है और बालों का कालापन भी बढ़ता है। अश्वगंधा के प्रत्येक 100 ग्राम में 789.4 मिलीग्राम लोहा पाया जाता है। लोहे के साथ ही इसमें पाए जाने वाले मुक्त अमीनो अम्ल इसे एक अच्छा हिमोटिनिक (रक्त में लोहा बढ़ाने वाला) टॉनिक बनाते हैं। कफ तथा वात संबंधी दोषों को दूर करने की शक्ति भी इसमें होती है।
मन को शांत करे: अश्वगंधा को एक हल्के शामक के रूप में भी जाना जाता है। चूंकि यह मन को शांत करता है और आरामदायक नींद को बढ़ावा देता है । यह एक टॉनिक के रूप में आयुर्वेदिक चिकित्सा में तनाव को रोकने और सहनशक्ति को बढ़ावा देता है।
गले के रोग (गलगंड) में: अश्वगंधा के फायदे के कारण और औषधीय गुणों के वजह से अश्वगंधा गले के रोग में लाभकारी सिद्ध होता है। अश्‍वगंधा पाउडरतथा पुराने गुड़ को बराबार मात्रा में मिलाकर 1/2-1 ग्राम की वटी बना लें। इसे सुबह-सुबह बासी जल के साथ सेवन करें। अश्‍वगंधा के पत्‍ते का पेस्‍ट तैयार करें। इसका गण्डमाला पर लेप करें। इससे गलगंड में लाभ होता है।
गर्भवती महिलाओं के लिए फायदेमंद: गर्भवती माताओं को इसके सेवन के लिए अत्यधिक सिफारिश की गई है ।यह माँ के रक्त को शुद्ध करने के साथ-साथ उसकी प्रतिरक्षा को भी मजबूत करता है ।
अल्जाइमर रोग के उपचार में: सफेद अश्वगंधा अल्जाइमर रोग के उपचार में लाभदायक होता है।
कैंसर को रोकने में मददगार: अश्वगंधा में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट कैंसर को रोकने में मदद करता है हालांकि एक डॉक्टर के परामर्श के बिना कभी भी सप्लीमेंट नहीं लेना चाहिए।

सम्बंधित ख़बरें