बजट फ्रेंडली बादाम है मूंगफली

बजट फ्रेंडली बादाम है मूंगफली

नईदिल्ली [ महामीडिया]   मूंगफली को बजट फ्रेंडली बादाम कहा जाता है। इसका मतलब यह है कि अगर कोई व्यक्ति बादाम अफोर्ड नहीं कर सकता, तो वो मूंगफली खरीदकर खा सकता है। दोनों में लगभग बराबर ही पोषक तत्व होते हैं। मूंगफली में यह प्रोटीन, कैलोरीज, विटामिन बी, ई तथा के, आयरन, फोलेट, कैल्शियम, नियासिन और जिंक का अच्छा स्त्रोंत है। मुट्ठी भर मूंगफली दूध, घी और सूखे मेवों की आपूर्ति करती है। आइए, जानते हैं फायदे- 
मूंगफली के जबरदस्त फायदे- 
यह शरीर में गर्मी का संचार करती है, इसलिए इसका सेवन खासतौर पर सर्दियों में किया जाता है। 100 ग्राम कच्ची मूंगफली में एक लीटर दूध के बराबर प्रोटीन होता है। इसमें प्रोटीन की मात्रा 25 प्रतिशत से भी अधिक होती है, जबकि मांस, मछली और अंडों में यह 10 प्रतिशत से अधिक नहीं होती। मूंगफली के तैयार 250 ग्राम मक्खन से 300 ग्राम पनीर, 2 लीटर दूध या फिर 15 अंडों के बराबर ऊर्जा आसानी से मिल सकती है। यही नहीं, 250 ग्राम भुनी मूंगफली में जितने खनिज और विटामिन मिलते हैं, उतने 250 ग्राम मांस से भी प्राप्त नहीं होते। सर्दियों में त्वचा में सूखापन आने पर मूंगफली के थोड़े से तेल में दूध और गुलाब जल मिलाकर मालिश करके स्नान करने से आराम मिलता है। मूंगफली में प्राकृतिक तेल होने से यह हमारे शरीर में वायु संबंधी बीमारियों को कम करती है।
इतनी मात्रा में करना चाहिए इसका सेवन- 
-मूंगफली खाने से रक्त में कोलेस्टॉल का लेवल कम होता है। इसमें मोनोसैचुरेटेड वसा होती है, जिसकी वजह से एक दिन में औसतन 67 ग्राम मूंगफली खाने से कुल -कोलेस्टॉल लेवल में 51 फीसदी की कमी आती है। यही नहीं, इससे कम घनत्व वाले बैड कोलेस्टॉल यानी लिपोप्रोटीन कोलेस्टॉल का लेवल 7।4 फीसदी कम होता है। मूंगफली हमारी धमनियों के लिए भी अच्छी होती है।
-मूंगफली में फोलेट की अच्छी मात्रा होती है, जो हमारे हार्मोन्स और फर्टिलिटी को बढ़ाता है। गर्भावस्था के दौरान नियमित रूप से मूंगफली खाने वाली महिलाओं के -बच्चों में जन्म दोष (न्यूरल ट्य़ूब में विकार) नहीं होता। गर्भावस्था में साठ ग्राम मूंगफली रोज खाने से गर्भस्थ शिशु की प्रगति में लाभ होता है। नियमित रूप से कच्ची -मूंगफली खाने से दूध पिलाने वाली माताओं का दूध बढ़ता है।
-मूंगफली में मैंगनीज नामक खनिज तत्व पाया जाता है, जो हमारे शरीर में वसा और कार्बोहाइड्रेट के पाचन, कैल्शियम की सही तरीके से खपत और ब्लड शुगर पर नियंत्रण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
-मूंगफली में मौजूद विटामिन-ई कैंसर और दिल की बीमारियों से बचाता है। इससे मिलने वाले एंजाइम हृदय की उस समय रक्षा करते हैं, जब हम कम ऑक्सीजन वाली ऊंची जगह पर होते हैं।

सम्बंधित ख़बरें