कोरोना वायरस: जानें महामारी और सर्वव्‍यापी महामारी में अंतर http://www.mahamediaonline.com

कोरोना वायरस: जानें महामारी और सर्वव्‍यापी महामारी में अंतर

कोरोना वायरस: जानें महामारी और सर्वव्‍यापी महामारी में अंतर
नई दिल्ली (महामीडिया)
विश्व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन ने कोरोना वायरस या कोविड-19 को सर्वव्‍यापी महामारी घोषित क‍र दिया है। लेकिन अभी भी कई लोग सर्वव्‍यापी महामारी (pandemic), महामारी (epidemic) और प्रकोप (outbreak) के बीच का अंतर समझ नहीं पा रहे है। जब कोरोना वायरस के ए‍क के बाद एक मामले सामने आए थे तो 3 शब्‍दों को बहुत प्रयोग में लिया गया था। वैसे तो तीन शब्‍दों का अर्थ काफी अलग हैं और इनका इस्‍तेमाल बीमारी के प्रसार का पैमाने का अंतर बताने के लिए किया जाता है। इसके बावजूद भी लोग इनके बीच का अंतर पता नहीं कर पाते हैं। 
प्रकोप (outbreak) 
इस मामले में जब किसी बीमारी का प्रसार का पैमाना छोटा और असामान्‍य होता है और मामलों की संख्या आमतौर पर छोटी होती है। इसके अलावा रोग को कवर करने वाला क्षेत्र भी छोटा होता है।
उदाहरण के लिए, एक मामला जिसमें कक्षा में लगभग 10-20 बच्चों को पेट का फ्लू एक साथ होता है ये एक तरह का प्रकोप (outbreak ) है। 
ध्‍यान देने वाली बात है जब भी कोई नई बीमारी सामने आती है तो वो प्रकोप बनकर सामने आती है। क्‍योंकि इस लक्षण नए होते है इसलिए समय रहते इन्‍हें काबू में लाना जरूरी होता है। जब भी कोई बीमारी प्रकोप बनकर सामने आता है तो संबंधित स्‍वास्‍थ्‍य एजेंसियों को जरुरी कदम उठाने चाहिए।
महामारी (epidemic) 
इस मामले में, बीमारी बड़े पैमाने पर फैलती है। जब कोई बीमारी महामारी का रूप लेती है तो ये बहुत बड़े भौगोलिक क्षेत्र को कवर करती है। जब चीन में वुहान के बाहर कोरोनावायरस या कोविड-19 के मामले सामने आने लगे, तो पहले ये वायरस प्रकोप के रुप में सामने आया था बाद में इसने महामारी का रुप ले लिया था।
सर्वव्‍यापी महामारी (pandemic) सर्वव्‍यापी महामारी में, जब कोई बीमारी प्रकोप बनकर महामारी का रूप ले लेती है अंतरराष्ट्रीय स्तर पर फैलने लगती है और नियंत्रण से बाहर हो जाए तो इसे सर्वव्‍यापी महामारी कहा जाता है। 
जब एक महामारी कई देशों में एक ही समय के दौरान में फैलती है, तो इसे सर्वव्‍यापी महामारी माना जाता है। 
डब्‍लूएचओ ने हाल ही में कोरोना वायरस को pandemic घोषित कर दिया है। pandemic को वैश्विक स्वास्थ्य आपातकाल का उच्चतम स्तर माना जाता है।
भारत में दूसरे स्‍टेज की महामारी, जानें कौनसा स्‍टेज होता है खतरनाक 
स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार भारत में कोरोना वायरस महामारी दूसरे स्टेज में है और इसे रोकने के लिए सरकार ने ठोस कारगर कदम नहीं उठाए तो स्थिति बिगड़ सकती है। भारतीय स्वास्थ्य शोध परिषद  के मुताबिक अभी इसे अगले स्टेज से रोकने के लिए सरकार के पास एक महीना है। 
सबसे पहले जानते हैं कि किस स्टेज में स्थिति कितनी खतरनाक होती है: 
स्टेज-1: संक्रमित जगहों से वायरस फैलने के मामले सामने आते हैं। 
स्टेज-2: स्थानीय लोगों में फैलना शुरू होता है, मामले बढ़ने लगते हैं ।
स्टेज-3: बड़े पैमाने पर यह समुदायों, मोहल्लों में फैलने लगता है। 
स्टेज-4: बीमारी महामारी में बदल जाती है, कहना मुश्किल कि कब-कहां खत्म होगी।
 

सम्बंधित ख़बरें