औषधीय गुणों की खान है मौसमी

औषधीय गुणों की खान है मौसमी

भोपाल [ महामीडिया ] कोरोना संकट के दौरान रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने की जरूरत है। ऐसे में मौसमी बेहद गुणकारी है।इसका वैज्ञानिक नाम सिट्रस लिमेटा है। चिकित्सकों का मानना है कि मौसमी का जूस पीने से बेहतर है कि हम मौसमी के फल का सेवन करें। मौसमी में मिनरल्स, विटामिन सी, फाइबर और पोटेशियम जैसे गुणकारी तत्व पाए जाते हैं, जो न सिर्फ बीमारियों से लड़ने में मदद करते हैं, बल्कि हमारे स्वास्थ्य को भी बेहतर बनाते हैं। यह नींबू प्रजाति का फल है, लेकिन नींबू की अपेक्षा कई गुना अधिक लाभकारी है। इसका फल करीब एक महीने तक बिना बिगड़े सुरक्षित रह सकता हैं।
एक मौसमी, कई फायदे-
यह बॉडी को डिटॉक्सीफाई करता है। इसे पीने से शरीर से टॉक्सिंस बाहर निकल जाते हैं।
इसका जूस आंखों के लिए काफी अच्छा है। एंटीऑक्सीडेंट और एंटीबैक्टीरियल कारणों से ये आपकी आंखों को इन्फेक्शन से बचाता है।
मौसमी में डायटरी फाइबर होता है जो कि कब्ज से पीड़ित लोगों के लिए उपयोगी है। इसलिए जूस की बजाय इसे सीधा खाया जाना चाहिए।
मसूड़ों में सूजन, बार-बार फ्लू होना, जुकाम और होठों का फटना जैसे लक्षण स्कर्वी रोग के कारण होते हैं। इसमें मौसमी काफी फायदेमंद है।
मौसमी खाने से पेट में पाचक रस का स्नाव होता है, जो भोजन को जल्दी पचाने में मदद करता है। इसमें पोटेशियम होता है जो पेट की गड़बड़ी, पेचिश और दस्त में फायदा पहुंचाता है।
त्वचा से जुड़े रोगों में भी मौसमी लाभकारी है। इसके छिलकों को कील-मुहासों पर लगाने से फायदा होता है। वहीं इसके सेवन से खून साफ होता है और त्वचा का
रंग भी निखरता है। मधुमेह के रोग में भी इसका सेवन आंवले और शहद के साथ फायदेमंद होता है।
मौसमी में विटामिन सी होता है, जो आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है और बीमारियों से लड़ने में मदद करता है। कोरोना संकट के दौरान यह काफी उपयोगी है। इससे कोलेस्ट्रॉल में कमी आती है और ब्लड प्रेशर की समस्या से भी निजात मिलती है।
 

सम्बंधित ख़बरें