पोलियो उन्‍मूलन का विरोध करने वाला तालिबान अब कोरोना टीकाकरण को देगा समर्थन

पोलियो उन्‍मूलन का विरोध करने वाला तालिबान अब कोरोना टीकाकरण को देगा समर्थन

नईदिल्ली [ महामीडिया] कोरोना वायरस से जूझते अफगानिस्‍तान में तालिबान राष्‍ट्रीय स्‍तर पर इसके टीकाकरण को समर्थन देने का एलान किया है। एक बयान में तालिबान ने कहा हे कि वो कोरोना वायरस से निजात दिलाने के लिए चलने वाले टीकाकरण का समर्थन करेगा। कई वर्षों में ये पहला मौका है कि जब तालिबान ने अफगान सरकार का किसी मुद्दे पर समर्थन किया है। तालिबान की तरफ से यहां तक कहा गया है कि वो इस काम में सरकार की मदद करने को भी तैयार है।आपको बता दें कि तालिबान की तरफ से आए इस समर्थन के कई अहम मायने हैं। आपको यहां पर ये भी बताना जरूरी है कि तालिबान ने पूर्व में सरकार द्वारा चलाए जा रहे पोलियो उन्‍मूलन के लिए घर-घर जाकर दवा पिलाने का न सिर्फ विरोध किया था बल्कि इसमें अवरोध भी पैदा किए थे। तालिबान का कहना था कि ऐसा करके सरकार उनके खिलाफ जासूसी कर रही है जिसका इस्‍तेमाल उनके ऊपर ड्रोन हमला कर उन्‍हें मारने के लिए किया जा रहा है। इसी वजह से 2018 से पहले इस अभियान में कमी आई थी, लेकिन बाद में इसमें तेजी आई।तालिबान ने इसके बाद न सिर्फ अपने इलाकों में स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं के लिए सरकारी अधिकारियों को आने की इजाजत दी बल्कि इसमें उनकी मदद भी की। वहीं इस काम में जुटे अधिकारियों का कहना है कि ये अभियान तालिबान की जासूसी के लिए नहीं बल्कि देश को पोलियो मुक्‍त करने के लिए चलाया गया है। इसी तरह से कोविड-19 टीकाकरण भी देश से इस महामारी को दूर करने के लिए है।आपको बता दें कि अफगानिस्‍तान को हाल ही में विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन की तरफ से कोवैक्‍स प्रोग्राम के तहत 112 मिलियन डॉलन की मदद की गई है। ये मदद विश्‍व के गरीब देशों को इस बीमारी से निजात दिलाने के तौर पर की गई है। 


 

सम्बंधित ख़बरें