आज 'वर्ल्ड मिल्क डे' है

आज 'वर्ल्ड मिल्क डे' है

भोपाल (महामीडिया) संयुक्त राष्ट्र के फूड एंड एग्रीकल्चर ऑर्गनाइजेशन की तरफ से हर साल 1 जून को 'वर्ल्ड मिल्क डे' मनाया जाता है जिससे दूध पीने की अहमियत और इसके बेहतरीन फायदों के प्रति लोग जागरूक हो। भारत की बात करें तो लोगों के जीवन का अहम हिस्सा दूध है। कोई इसे गर्म करके पीता है तो कोई हल्दी आदि डालकर इसका सेवन करता हैं। यह बात तो हर कोई जानता हैं कि दूध पीने से हमारी हड्डियां मजबूत होती है। लेकिन इसके अलावा भी इसके कई फायदे के साथ-साथ नुकसान भी है। 
दूध पीने के लाभ
मांसपेशियों और हड्डियों को रखें मजबूत
दूध में भरपूर मात्रा में कैल्शियम के साथ-साथ प्रोटीन पाया जाता है जो आपकी हड्डियों और मांसपेशियों को मजबूत करने में मदद करता है। 
दांत को रखें मजबूत
दूध में कैल्शियम, आयोडीन, फास्फोरस पाया जाता है। जो दांतों को मजबूत रखने में मदद करता है।
दूध पीने के लाभ और नुकसान
दूध पीने के लाभ और नुकसान
वजन को करें कंट्रोल
दूध में कैल्शियम, विटामिन-डी पाया जाता है, जो शरीर का मेटाबॉजिल्म बढ़ाकर वजन कम करने में मदद करता है। इसके अलावा इसमें प्रोटीन होता है जो आपके पेट को काफी देर तक भरा रखता है। 
ब्लड प्रेशर
इसमें विटामिन-डी और कैल्शियम पाया जाता है जो ब्लड प्रेशर को कम करने में मदद करता है। अगर आपको हाई ब्लड प्रेशर की समस्या है तो लो फैट दूध आपके लिए फायदेमंद होगा।
डिप्रेशन से दिलाएं निजात
कई रिसर्च में ये बात सामने आ चुक है कि दूध डिप्रेशन को कम करने में मदद करता है। इसमें मौजूद प्रोटीन लैक्टियम शरीर को आराम पहुंचाता है। जिसे आपको डिप्रेशन से राहत मिलती है। 
दूध पीने के लाभ और नुकसान

दूध पीने के नुकसान
भले ही दूध काफी फायदेमंद होता है, लेकिन कभी-कभी दूध का सेवन करना नुकसानदेय साबित हो सकता है।  
पेट संबंधी समस्या
दूध में लैक्टोज होता है जो कई बार पाचन तंत्र को गड़बड़ी पैदा कर देता है। जिसके कारण आपको गैस की समस्या, कब्ज, दस्त हो जाते हैं। दूध में मौजूद मिनरल और पैप्टाइड्स  के कारण गैस्ट्रिक की समस्या बढ़ सकती है।
एलर्जी
दूध में पाया लैक्टोज पाया जाता है जिसके कारण कई लोगों को एलर्जी भी हो जाती है।  इससे इम्यूनिटी सिस्टम पर प्रभाव पड़ता है। 
पिंपल का कारण
दूध का अधिक सेवन करने के कारण चेहरे पर पिंपल भी हो सकते हैं। दूध में मौजूद कॉम्पलैक्स फैट की मात्रा अधिक होने के कारण कई लोग इसे पचा नहीं पता है। जिसके कारण स्किन संबंधी समस्या है जाती है।
 

सम्बंधित ख़बरें