विश्व अल्जाइमर दिवस आज 

विश्व अल्जाइमर दिवस आज 

भोपाल [महामीडिया] हर साल विश्वभर में 21 सितंबर को विश्व अल्जाइमर मनाया जाता है। इस दिन को अल्जाइमर एवं मनोभ्रंश (डिमेंशिया) जैसे रोग के बारे में लोगों को जागरूक करने के उद्धेश्य से मनाया जाता है। दरअसल, अल्जाइमर एक ऐसी दिमागी बीमारी है, जिसमें धीरे-धीरे व्यक्ति की याद्दाश्त और सोचने की शक्ति कम होती रहती है।अल्जाइमर रोग का सबसे समान्य रूप डिमेंशिया है। अल्जाइमर को लेकर पहले लोगों के बीच यह धारणा थी कि यह बीमारी बुजुर्गों को होती है लेकिन अब इसकी चपेट में युवा भी आ रहे हैं। ऐसे में यह समझना बेहद जरूरी हो जाता है कि आखिर यह रोग क्या है, इसके लक्षण और बचाव के तरीके क्या होते हैं। क्यों होती है यह बीमारी-अल्जाइमर का खतरा मस्तिष्क में प्रोटीन की संरचना में गड़बड़ी होने के कारण बढ़ता है। ये एक मस्तिष्क से जुड़ी बीमारी है, जिसमें व्यक्ति धीरे-धीरे अपनी याददाश्त खोने लगता है। 
अल्जाइमर के लक्षण-
-रात में नींद न आना
-रखी हुई चीजों को जल्दी भूल जाना
-आंखों की रोशनी कम होने लगना
-छोटे-छोटे कामों को करने में भी परेशानी होना
-अपने परिवार के सदस्यों को न पहचान पाना
-कुछ भी याद करने, सोचने और निर्णय लेने की क्षमता पर प्रभाव पड़ना
-डिप्रेशन में रहना, डर जाना
अल्जाइमर से बचाव-
हालांकि अभी तक इस बीमारी का कोई सटीक इलाज डॉक्टरों को नहीं मिल पाया है, लेकिन अपनी जीवनशैली में बदलाव करके इस रोग से काफी हद तक बचा जा सकता है।
-नियमित रूप से व्यायाम करें।
-पोषक तत्वों से भरपूर डाइट लें।
-लोगों से मिलना जुलना चाहिए, जिससे डिप्रेशन न हो।
-पर्याप्त नींद लें।
-सकारात्मक सोच बनाए रखें। 
-नशे से दूर रहें। 
-ब्लड प्रेशर व शुगर नियंत्रित रखें।
-शुगर की मात्रा कम रखनी चाहिए। 
-बहुत ज्यादा नमक नहीं खाना चाहिए।
-काफी ज्यादा मात्रा में पानी पीना चाहिए।
-वजन को संतुलित रखना चाहिए।
-डाइट में तरह-तरह के फल और सब्जियों को शामिल करना चाहिए जैसे साबुत अनाज, लीन प्रोटीना आदि।

सम्बंधित ख़बरें