चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक का पद अलग करने के लिए दो साल का वक्त मिला

नई दिल्ली [ महामीडिया ]भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड ने भारतीय कंपनी जगत को चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक  पदों को अलग करने के लिए दो साल का वक्त दे दिया है। कंपनियों को यह प्रावधान लागू करने के लिए अब अप्रैल 2022 तक का वक्त मिल गया है। देश के प्रमुख उद्योग संगठन एवं कंपनी जगत कंपनी प्रबंधन के इन शीर्ष पदों को अलग करने को लेकर समस्या जताते रहे हैं। उनका मत रहा है कि अर्थव्यवस्था में गिरावट के इस दौर में नए नियम से उन पर अनुपालन बोझ बढ़ जाएगा। बाजार नियामक ने बाजार मूल्य के लिहाज से देश की शीर्ष 500 कंपनियों के लिए चेयरमैन एवं एमडी के पद अलग करने का निर्देश दिया हुआ था। उन्हें 1 अप्रैल 2020 तक इस पर अमल करने को कहा गया था। लेकिन सेबी ने 10 जनवरी को जारी अधिसूचना में इस सीमा को बढ़ाकर अप्रैल 2022 कर दिया है। हालांकि सेबी ने समयसीमा बढ़ाने के लिए कोई कारण नहीं बताया है।वैसे सेबी ने चेयरमैन एवं एमडी के पद अलग-अलग व्यक्तियों के पास रहने का प्रावधान लागू करने के लिए कंपनी जगत को पर्याप्त समय दिया था। लेकिन इसकी समयसीमा समाप्त होने में दो महीने का ही वक्त बाकी रह जाने के बावजूद कई कंपनियां इसे लागू नहीं कर पाई थीं। 

सम्बंधित ख़बरें