महामीडिया न्यूज सर्विस
मंदिर सार्वजनिक संपत्ति है, कोई भी जा सकता है-सुप्रीम कोर्ट

मंदिर सार्वजनिक संपत्ति है, कोई भी जा सकता है-सुप्रीम कोर्ट

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 65 दिन 9 घंटे पूर्व
18/07/2018
 नई दिल्ली(महामीडिया) केरल के सबरीमाला मंदिर में 10 से 50 उम्र वर्ग की महिलाओं के प्रवेश पर लगे प्रतिबंध के मामले पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है. बुधवार को सुनवाई के दौरान कोर्ट ने कहा कि देश में प्राइवेट मंदिर का कोई सिद्धांत नहीं है. मंदिर प्राइवेट संपत्ति नहीं बल्कि सावर्जनिक संपत्ति होते हैं, जहां कोई भी जा सकता है. कोर्ट ने यहां तक कहा कि जब भगवान ने पुरुष और महिला में कोई भेद नहीं किया, उसी ने दोनों को बनाया है तो फिर धरती पर भेदभाव क्यों किया जाता है.बीते शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट इस मामले को संविधान पीठ को भेज दिया. पीठ फैसला करेगी कि क्या तय आयु वर्ग की महिलाओं के मंदिर में प्रवेश पर प्रतिबंध भेदभावपूर्ण है और संविधान के अनुच्छेद-14, 15, 17 का उल्लंघन है 
और ख़बरें >

समाचार