महामीडिया न्यूज सर्विस
पूरे विश्व के साथ भारत में भी बढ़ा ग्लोबल वॉर्मिंग का खतरा

पूरे विश्व के साथ भारत में भी बढ़ा ग्लोबल वॉर्मिंग का खतरा

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 168 दिन 11 घंटे पूर्व
08/10/2018
इंचियोन (महामीडिया) जलवायु परिवर्तन का खतरा पूरे विश्व पर मंडला रहा है। इससे भारत भी अछूता नहीं है। जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र की संस्था इंटरगर्वमेंटल पैनल ऑफ क्लाइमेट चेंज ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि ग्लोबल वार्मिंग को 1.5 डिग्री सेल्सियस तक सीमित करने के लिए समाज के सभी पहलुओं में दूरगामी और अभूतपूर्व परिवर्तन की आवश्यकता है। आईपीसीसी ने चेतावनी देते हुए कहा है कि ग्रीन हाउस गैसों के मौजूदा उत्सर्जन स्तर को देखते हुए 2030 तक दुनिया का तापमान 1.5 डिग्री तक बढ़ जाएगा। यदि दुनिया में 2 डिग्री से ज्यादा तापमान बढ़ गया तो पूरे विश्व में गंभीर संकट पैदा हो सकता है। भारतीय उपमहाद्वीप में भी इसके गंभीर परिणाम होंगे। आईपीसीसी के प्रमुख होसुंग ली ने कहा, '6000 से अधिक वैज्ञानिक संदर्भों का उल्लेख और दुनिया भर के हजारों विशेषज्ञ व सरकारी समीक्षकों के योगदान से यह महत्वपूर्ण रिपोर्ट बनाई गई है।' इस रिपोर्ट में भारत के कोलकाता शहर का भी उल्लेख किया गया है। रिपोर्ट में बताया गया है कि कोलकाता को 2015 जैसे गर्म हवाओं के थपेड़ों का सामना करना पड़ सकता है। गर्म हवाओं की वजह से मृत्युदर में भी वृद्धि हो सकती है। जलवायु परिवर्तन के कारण गरीबी बढ़ेगी और फसलों के उत्पादन में भी कमी आ सकती है। 

और ख़बरें >

समाचार