महामीडिया न्यूज सर्विस
सहस्रचण्डी महायज्ञ एवं श्रीराम कथा का शुभारम्भ

सहस्रचण्डी महायज्ञ एवं श्रीराम कथा का शुभारम्भ

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 8 दिन 10 घंटे पूर्व
10/10/2018
भोपाल (महामीडिया), आज श्री गुरूदेव स्वामी ब्रह्मानन्द सरस्वती आश्रम, छान में श्री सहस्रचण्डी महायज्ञ का शुभारम्भ प्रातः 08.00 बजे प्रारम्भ हुआ। सर्वप्रथम कलश यात्रा प्रारम्भ हुई जिसमें सैकड़ों लोगों ने भाग किया इसके पश्चात् 100 वैदिक पण्डितों के मंत्रोच्चार के बीच पूजन, श्रीचण्डी पाठ एवं हवन का कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। इस अवसर पर महर्षि विद्या मन्दिर समूह के चेयरमैन ब्रह्मचारी गिरीश की गरिमामय उपस्थिति में पूजन एवं श्रीचण्डी पाठ किया गया। इस अवसर पर ब्रह्मचारी गिरीश ने कहा कि शारदीय नवरात्र के पावन पर्व पर परम पूज्य महर्षि महेश योगी जी की दिव्य प्रेरणा से श्रीसहस्रचण्डी महायज्ञ एवं श्रीराम कथा अमृत प्रवाह का आयोजन स्वामी ब्रह्मानन्द सरस्वती आश्रम, छान में हो रहा है जिसका उद्देश्य सम्पूर्ण विश्व के प्राणियों में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह सुनिश्चित करना है। इस अवसर पर हरिद्वार से पधारे सुप्रसिद्ध कथा व्यास अनन्त श्री विभूषित महामण्डलेश्वर स्वामी अर्जुन पुरी महाराज ने श्रीराम कथा का शुभारम्भ करते हुए कहा कि महर्षि महेश योगी भगवान शंकर के दिव्य अवतार थे जिन्होंने विद्यालयों, विद्यापीठम् एवं धर्म संस्थाओं की पूरे विश्व में स्थापना कर सनातन धर्म का प्रचार प्रसार किया और आज यही कार्य उनके परम शिष्य ब्रह्मचारी गिरीश जी कर रहे हैं। सर्वप्रथम वंदना होती है और अंत में विर्सजन होता है इसलिए नव दिवस तक रामकथा का श्रवण कर उसकी साधना करो और कार्य रूप में परिणित करो। ब्रह्मा आकार रहित है अर्थात् स्त्रीलिंग और पुर्लिंग से परे है। आसमान गोल है धरती भी गोल है और ब्रह्माण्ड भी गोल है। ब्रह्माण्ड में केवल 3 तत्व हैं ब्रह्मा-विष्णु-जीव। ओम ब्रह्म है, जीव अनेक है और ब्रह्म एक है। 
इस नवदिवसीय श्रीसहस्रचण्डी महायज्ञ एवं श्रीराम कथा अमृत प्रवाह का आयोजन महर्षि वेद विज्ञान विद्यापीठ, महर्षि विद्या मन्दिर विद्यालय समूह एवं महर्षि विश्व शाँति आन्दोलन के संयुक्त तत्वाधान में हो रहा है। प्रातिदिन प्रातः 8 बजे से लेकर 12 बजे तक पूजन, श्रीचण्डीपाठ एवं हवन का कार्यक्रम रखा गया है। सायं 3 बजे से 6 बजे तक श्रीराम कथा अमृत प्रवाह का आयोजन किया जा रहा है। इस अवसर पर महर्षि समूह के विभिन्न संस्थानों के अधिकारी, कर्मचारी एवं समाज के वरिष्ठ नागरिक उपस्थित थे।

और ख़बरें >

समाचार