महामीडिया न्यूज सर्विस
प्रयागराज में भव्य स्मारक का लोकापर्ण 15 फरवरी को

प्रयागराज में भव्य स्मारक का लोकापर्ण 15 फरवरी को

admin | पोस्ट किया गया 4 दिन 11 घंटे पूर्व
12/02/2019
भोपाल (महामीडिया) पूरी दुनिया में भारत को विश्व गुरू के रूप में प्रतिस्थापित करने एवं योग की वैज्ञानिक तकनीक से मानव कल्याण के लिए अपना जीवन सम्पर्ण कर देने वाले महान योगी महर्षि महेश योगी की योग विद्या को जन-जन तक पहुंचाने जया एकादशी 15 फरवरी के दिन महर्षि आश्रम संगमतट अरैल प्रयागराज में भव्य स्मारक का लोकापर्ण ज्योतिर्मठ के शंकराचार्य स्वामी ब्रह्मानन्द सरस्वती एवं देश के कई साधू संतो की गरिमामय उपस्थिति में होगा। महर्षि विद्या मंदिर समूह के प्रमुख  ब्रह्मचारी गिरीश के अनुसार महर्षि के वैदिक ज्ञान को पूरी दुनिया में पहुंचाने एवं प्रकृति के नियमों के अनुसार जीवन को आन्नद से जीने के लिए वैदिक ज्ञान की वर्तमान में अति आवश्यकता है। आज की शिक्षा विदेश से ली गई शिक्षा प्रणाली है जिसमें कहीं भी वैदिक ज्ञान विज्ञान का समावेश नहीं है। मालूम हो कि भारत विश्व  गुरू बनने की ओर कदम बढ़ा रहा है। वैदिक ज्ञान के सहारे कई विधानों के माध्यम से महर्षि महेश योगी जी की "टीएम तकनीक" एवं वैदिक ज्ञान पद्विति के लिए महर्षि संस्थान अपने कई माध्यमों से कार्य कर रहा है। कुंभ के दौरान प्रयागराज में महर्षि वेद विज्ञान विद्या भवन का शुभारंभ भारत के वैदिक ज्ञान को पूरी दुनिया में आकर्षित करने का प्रमुख केन्द्र बिन्दु होगा। 
" >
भोपाल (महामीडिया) पूरी दुनिया में भारत को विश्व गुरू के रूप में प्रतिस्थापित करने एवं योग की वैज्ञानिक तकनीक से मानव कल्याण के लिए अपना जीवन सम्पर्ण कर देने वाले महान योगी महर्षि महेश योगी की योग विद्या को जन-जन तक पहुंचाने जया एकादशी 15 फरवरी के दिन महर्षि आश्रम संगमतट अरैल प्रयागराज में भव्य स्मारक का लोकापर्ण ज्योतिर्मठ के शंकराचार्य स्वामी ब्रह्मानन्द सरस्वती एवं देश के कई साधू संतो की गरिमामय उपस्थिति में होगा। महर्षि विद्या मंदिर समूह के प्रमुख  ब्रह्मचारी गिरीश के अनुसार महर्षि के वैदिक ज्ञान को पूरी दुनिया में पहुंचाने एवं प्रकृति के नियमों के अनुसार जीवन को आन्नद से जीने के लिए वैदिक ज्ञान की वर्तमान में अति आवश्यकता है। आज की शिक्षा विदेश से ली गई शिक्षा प्रणाली है जिसमें कहीं भी वैदिक ज्ञान विज्ञान का समावेश नहीं है। मालूम हो कि भारत विश्व  गुरू बनने की ओर कदम बढ़ा रहा है। वैदिक ज्ञान के सहारे कई विधानों के माध्यम से महर्षि महेश योगी जी की "टीएम तकनीक" एवं वैदिक ज्ञान पद्विति के लिए महर्षि संस्थान अपने कई माध्यमों से कार्य कर रहा है। कुंभ के दौरान प्रयागराज में महर्षि वेद विज्ञान विद्या भवन का शुभारंभ भारत के वैदिक ज्ञान को पूरी दुनिया में आकर्षित करने का प्रमुख केन्द्र बिन्दु होगा। 
और ख़बरें >

समाचार