महामीडिया न्यूज सर्विस
घर पर ही बना दिया विलुप्त वाद्ययंत्रों का संग्रहालय

घर पर ही बना दिया विलुप्त वाद्ययंत्रों का संग्रहालय

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 62 दिन 11 घंटे पूर्व
21/06/2019
रायपुर [महामीडिया ]    संगीत और उसकी दुनिया स्वर्ग से कम नहीं, जो इस विधा में डूब गया उसकी दुनिया ही निराली हो जाती है। ऐसी ही कहानी है भिलाई निवासी रिखी क्षत्रीय की। प्रदेश की लोककला और संगीत से ऐसा प्रेम कि घर को ही संग्रहालय बना दिया। संग्रहालय में ऐसे वाद्य यंत्र हैं जो अब न तो दिखाई देते हैं न ही सुनाई, लेकिन हर शाम रिखी के घर में इन वाद्य यंत्रो की धुन सुनाई देती है।20 लोगों का समूह तैयार कर इन वाद्य यंत्रों पर रोजाना प्रस्तुति दी जाती है। इस कहानी को आपके बीच इसलिए बता रहे हैं ताकि विश्व संगीत दिवस पर आप प्रदेश के उन वाद्य यंत्रों से परिचित हो जिनके नाम कभी-कभी सुनाई देते हैं। इन वाद्य यंत्रों का संकलन कर आज भी उन्हें रिखी जीवित रखे हैं।

और ख़बरें >

समाचार