महामीडिया न्यूज सर्विस
मन की बात से पहले भी बोले नरेन्द्र मोदी

मन की बात से पहले भी बोले नरेन्द्र मोदी

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 51 दिन 54 मिनट पूर्व
30/06/2019
नई दिल्ली (महामीडिया) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'मन की बात' कार्यक्रम में देश की जनता को संबोधित किया। पीएम ने स्वच्छता, जल संरक्षण और योग आदि मुद्दों पर बात की। उन्होंने जल संरक्षण पर जोर देते हुए जनता से तीन अनुरोध भी किए। इससे पहले प्रधान मंत्री ने कहा, चुनाव की आपाधापी में व्यस्तता तो ज्यादा थी लेकिन मन की बात का मजा ही गायब था, एक कमी महसूस कर रहा था। हम 130 करोड़ देशवासियों के स्वजन के रूप में बातें करते थे। उन्होंने कहा कि 'मन की बात' देश और समाज के लिए आइने की तरह है। ये हमें बताता हां कि देशवासियों के भीतर मजबूती, ताकत और टैलेंट की कोई कमी नहीं है। उन्होंने कहा, कई सारे संदेश पिछले कुछ महीनों में आए हैं जिसमें लोगों ने कहा कि वो 'मन की बात' को मिस कर रहे हैं। जब मैं पढता हूं, सुनता हूं मुझे अच्छा लगता है। मैं अपनापन महसूस करता हूं।
उन्होंने कहा, कई लोगों ने मुझे चुनाव की आपाधापी में, मैं केदारनाथ क्यों चला गया, बहुत सारे सवाल पूछे हैं। आपका हक है, आपकी जिज्ञासा भी मैं समझ सकता हूं। उन्होंने कहा, आपने कई बार मेरे मुंह से सुना होगा, 'बूके नहीं बुक', मेरा आग्रह था कि क्या हम स्वागत-सत्कार में फूलों के बजाय किताबें दे सकते हैं। मुझे हाल ही में किसी ने ?प्रेमचंद की लोकप्रिय कहानियां? नाम की पुस्तक दी. प्रेमचंद की ?ईदगाह? कहानी का पात्र 4-5 साल का हामिद जब मेले से चिमटा लेकर अपनी दादी के पास पहुंचता है तो सच मायने में, मानवीय संवेदना अपने चरम पर पहुंच जाती है। 

और ख़बरें >

समाचार