महामीडिया न्यूज सर्विस
'बजट' पर लगने लगे कयास

'बजट' पर लगने लगे कयास

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 114 दिन 4 घंटे पूर्व
01/07/2019
नई दिल्ली (महामीडिया) मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला बजट पांच जुलाई को संसद में पेश होगा। नवनियुक्त वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण वित्त वर्ष 2019-20 का पूर्ण बजट लोकसभा में पेश करेंगी। साथ ही वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर भी होंगे। आर्थिक सर्वेक्षण संसद में चार जुलाई को पेश किया जाएगा। आर्थिक सर्वेक्षण में देश की अर्थव्यवस्था की तस्वीर पेश की जाती है। इसके एक दिन बाद वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण संसद में पूर्ण बजट पेश करेंगी। अब आम बजट में ही रेल बजट को शामिल कर लिया गया है। बजट पेश होने से पहले इसके विषय में कयास लगने शुरू हो गये हैं। व्यक्तिगत आयकर दाताओं के लिए कर छूट की सीमा मौजूदा 2.5 लाख रुपये से ऊपर होने का अनुमान है। साथ ही 10 करोड़ रुपये से अधिक सालाना आय वालों पर 40 प्रतिशत की ऊंची दर से आयकर लगाया जा सकता है। केपीएमजी के एक सर्वे में यह अनुमान लगाया गया है। इस सर्वे में विभिन्न उद्योगों के 226 लोगों के विचार लिए गए हैं। सर्वे में 13 प्रतिशत की राय थी कि विरासत कर को वापस लिया जा सकता है जबकि 10 प्रतिशत ने कहा कि संपदा कर- एस्टेट शुल्क को पुन: लागू किया जाना चाहिए। घरों की मांग में बढ़ाने के वास्ते 65 प्रतिशत लोगों का मानना था कि बजट में खुद रहने वाले मकान पर आवास ऋण पर ब्याज दिये गये ब्याज पर कर कटौती सीमा को दो लाख रुपये से आगे बढ़ाया जा सकता है। वहीं 51 प्रतिशत ने कहा कि सरकार आवास ऋण की मूल राशि के पुनर्भुगतान पर धारा 80 सी के तहत मौजूदा 1.5 लाख रुपये की कर छूट सीमा में से अलग राशि तय कर सकती है। 

और ख़बरें >

समाचार