महामीडिया न्यूज सर्विस
जम्मू कश्मीर में राष्ट्रपति शासन बढ़ाने के प्रस्ताव को राज्यसभा की मंजूरी

जम्मू कश्मीर में राष्ट्रपति शासन बढ़ाने के प्रस्ताव को राज्यसभा की मंजूरी

admin | पोस्ट किया गया 49 दिन 5 घंटे पूर्व
02/07/2019
नई दिल्ली (महामीडिया) कल राज्यसभा में जम्मू कश्मीर में राष्ट्रपति शासन की अवधि को छह महीने बढ़ाने के प्रस्ताव को गहन चर्चा के बाद मंजूरी मिल गयी। इस विधेयक को समाजवादी पार्टी, बीजू जनता दल, तृणमूल कांग्रेस सहित कई और दलों ने भी समर्थन किया। प्रस्ताव को गृहमंत्री अमित शाह ने पेश किया था। गृहमंत्री शाह ने कल राज्यसभा में कहा कि हमारी सरकार की नीति जम्हूरियत, इंसानियत और कश्मीरियत की है। उन्होनें कहा कि मैं नरेन्द्र मोदी सरकार की तरफ से सदन के सभी सदस्यों तक ये बात रखना चाहता हूं कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग हैं और इसे कोई देश से अलग नहीं कर सकता। अमित शाह ने कहा कि जम्हूरियत सिर्फ परिवार वालों के लिए ही सीमित नहीं रहनी चाहिए। जम्हूरियत गांव तक जानी चाहिए, चालीस हज़ार पंच, सरपंच तक जानी चाहिए और ये ले जाने का काम हमने किया। जम्मू कश्मीर में 70 साल से करीब 40 हजार लोग घर में बैठे थे जो पंच-सरपंच चुने जाने का रास्ता देख रहे थे। क्यों अब तक जम्मू-कश्मीर में चुनाव नहीं कराये गये, और फिर जम्हूरियत की बात करते हैं। उन्होनें कहा कि कश्मीर की आवाम की संस्कृति का संरक्षण हम ही करेंगे। एक समय आएगा जब माता क्षीर भवानी मंदिर में कश्मीर पंडित भी पूरा करते दिखाई देंगे और सूफी संत भी वहां होंगे।  गृहमंत्री ने कहा कि मैं फिर दोहराना चाहता हूं कि नरेन्द्र मोदी सरकार की आतंकवाद के प्रति जीरो टॉलरेंस की नीति है। 
और ख़बरें >

समाचार