महामीडिया न्यूज सर्विस
आईटीबीपी ने किया विश्व का सबसे कठिन रेसक्यू

आईटीबीपी ने किया विश्व का सबसे कठिन रेसक्यू

admin | पोस्ट किया गया 52 दिन 13 घंटे पूर्व
03/07/2019
नई दिल्‍ली  [महामीडिया ] मानवता का अभूतपूर्व उदाहरण पेश करते हुए इंडो-तिब्‍बतन बार्डर पुलिस (आईटीबीपी) फोर्स ने करीब एक महीने पहले हिमालय में करीब 21 हजार फीट की ऊंचाई पर एक ऑपरेशन की शुरूआत की थी. यह ऑपरेशन पर्वतारोहण के लिए गए गए एक दल के रेस्‍क्‍यू से जुड़ा हुआ था. इस पर्वतारोही दल में कुल 12 लोग शामिल थे. जिसमें 11 विदेशी नागरिक थे और एक भारतीय नागरिक था. इन विदेशी नागरिकों में 8 ब्रिटिश, 2 अमेरिका और एक आस्‍ट्रेलिया मूल के नागरिक शामिल थे. 26 मई को हुए एक हादसे में 12 में से 8 विदेशी नागरिकों की 21 हजार फीट की ऊंचाई पर मृत्‍यु हो गई थी. जिनके शवों को नीचे लाने के लिए आईटीबीपी ने इस ऑपरेशन को शुरू किया था. करीब एक महीने से अधिक की जद्दोजहद के बाद आईटीबीपी आठ में से सात शवों को न केवल खोजने में कामयाब रही, बल्कि चार विदेशी नागरिकों के शवों को मंसूरी कैंप तक लाने में सफल रही है. बाकी बचे तीन तीन शवों को लेकर आईटीबीपी के जवान नंदा देवी से नीचे आ रहे हैं. आईटीबीपी के वरिष्‍ठ अधिकारी ने बताया कि कल सुबह तक बाकी बचे तीन शवों को पिथौरागढ़ बेस कैंप तक पहुंचा दिया जाएगा. उन्‍होंने बताया कि 12 मई को 12 सदस्‍यीय पर्वतारोही दल पर्वतारोहण के लिए निकाला था. तय कार्यक्रम के अनुसार, यह पर्वतारोही दल 25 मई को नंदादेवी बेस कैंप तक पहुंचने में कामयाब रहा. नंदादेवी बेस कैंप पहुंचने के बाद यह पर्वतारोही दो टीमों में बंट गए. जिसमें चार सदस्‍यीय एक टीम नंदा देवी से नए रास्‍ते की खोज पर निकल पड़ा. वहीं दूसरा दल ने हिमालय की एक वर्जिन पीक पर चढ़ने का फैसला किया. 


और ख़बरें >

समाचार