महामीडिया न्यूज सर्विस
वेस्‍ट दिल्‍ली के कोचिंग सेंटर में लगी भीषण आग

वेस्‍ट दिल्‍ली के कोचिंग सेंटर में लगी भीषण आग

admin | पोस्ट किया गया 21 दिन 18 घंटे पूर्व
30/07/2019
नई दिल्‍ली (महामीडिया) वेस्‍ट द‍िल्‍ली  में जनकपुरी के एक कोचिंग सेंटर की बिल्‍डिंग में मंगलवार को आग लग गई। आग लगते ही वहां अफरातफरी का माहौल बन गया। जिस वक्‍त बिल्‍डिंग में आग लगी वहां सैकड़ों बच्चे पढ़ाई कर रहे थे।
जनकपुरी स्थित एक कोचिंग सेंटर की इमारत में मंगलवार दिन में करीब साढ़े ग्यारह बजे तब अफरातफरी की स्थिति बन गई जब बहुमंजिला इमारत के भूतल पर स्थित इलेक्ट्रिक पैनल बॉक्स में आग लग गई। इस कोचिंग में कई बच्‍चे उस वक्‍त पढ़ रहे थे। आग लगने के कारण उठे धुएं का गुबार आसपास फैल गया। आलम यह था कि लोगों को धुएं के कारण कुछ भी नजर नहीं आ रहा था।
स्थिति तब और भयानक नजर आने लगी जब रह रहकर पैनल बॉक्स में धमाका होने लगा। जब इमारत में आग लगी थी तब इमारत में चल रहे कोचिंग में कक्षाएं चल रही थी। इस इमारत में बैंक का कार्यालय भी है। उपर के एक तल में लाइब्रेरी भी है। आनन-फानन में पूरी इमारत को खाली कराया गया। बच्चों से कहा गया कि वे अपने बैग को यहीं छोड़ दें और फौरन बाहर निकलें। अनहोनी की आशंका को देखते हुए आसपास स्थित इमारत में चल रहे कोचिंग की कक्षाओं को भी खाली कराया गया। देखते ही देखते हजारों की संख्या में विद्यार्थी बाहर निकले। इधर मामले की जानकारी मिलते ही मौके पर पहुंचे अग्निशमन विभाग के दस्ते ने आग पर काबू पाया। पुलिस मामले की तहकीकात में  जुटी है। जनकपुरी के जिस एरिया में यह घटना हुई है वहां कई कोचिंग संस्‍थान हैं।
इस घटना के ठीक एक दिन पहले हाई कोर्ट ने कोचिंग सेंटर में आग से बचाव के उपाय पर चिंता जताई है। मुखर्जी नगर व आसपास के इलाके में अग्नि सुरक्षा उपकरणों व बिना अनुमति बड़े पैमाने पर चल रहे कोचिंग सेंटर के खिलाफ दायर याचिका पर हाई कोर्ट ने चिंता जताते हुए एजेंसियों को फटकार लगाई है। मुख्य न्यायमूर्ति डीएन पटेल व न्यायमूर्ति सी हरिशंकर की पीठ ने कहा कि अगर हम समय रहते नहीं चेते तो मुखर्जी नगर में गुजरात के सूरत जैसी घटना होगी। मुख्य पीठ ने एक तरफ जहां टाटा पावर दिल्ली डिस्ट्रिब्यूशन लिमिटेड (टीपीपीडीएल) की खिंचाई करते हुए कहा कि डिस्कॉम के अधिकारी ऐसे कोचिंग सेंटर पर आंख बंद कर बैठे हैं, वहीं दूसरी तरफ यह भी कहा कि दमकल विभाग और उत्तरी दिल्ली नगर निगम ने भी कुछ नहीं किया।
और ख़बरें >

समाचार