महामीडिया न्यूज सर्विस
जम्मू-कश्मीर की बदली तस्वीर

जम्मू-कश्मीर की बदली तस्वीर

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 14 दिन 22 घंटे पूर्व
06/08/2019
नई दिल्ली (महामीडिया) जम्मू-कश्मीर राज्य पुनर्गठन विधेयक 2019 के कानून बन जाने के बाद जम्मू-कश्मीर की तस्वीर बदल जायेगी। लद्दाख के केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद करगिल जिला केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर का हिस्सा नहीं रहेगा। जम्मू-कश्मीर राज्य पुनर्गठन विधेयक के प्रावधानों के मुताबिक करगिल और लेह जिले को मिलाकर लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश बनाया जाएगा। जम्मू-कश्मीर राज्य के बाकी बचे जिलों को मिलाकर जम्मू-कश्मीर केंद्र शासित राज्य बनाया जाएगा। रिपोर्ट के अनुसार, जम्मू-कश्मीर राज्य में कुल 22 जिले थे।
जम्मू-कश्मीर राज्य पुनर्गठन विधेयक 2019 के बाद जम्मू-कश्मीर में कई प्रशासनिक और विधायी बदलाव आएंगे। लद्दाख के लेफ्टिनेंट गवर्नर की सहायता के लिए केंद्र सरकार द्वारा सलाहकार नियुक्त किया जाएगा। राज्यसभा के चार मौजूदा सांसद जो जम्मू-कश्मीर का प्रतिनिधित्व करते हैं वे अब केंद्र शासित प्रदेशों का प्रतिनिधित्व करेंगे। उनके कार्यकाल में कोई बदलाव नहीं आएगा। जम्मू-कश्मीर के लोकसभा के 6 मौजूदा सांसदों को कार्यकाल में कोई बदलाव नहीं आएगा। नए जम्मू-कश्मीर केंद्र शासित प्रदेश में 5 सांसद होंगे और लद्दाख के लिए एक सांसद होगा। नई जम्मू-कश्मीर विधानसभा में अनुसूचित जाति और जनजाति को आबादी के अनुपात में आरक्षण दिया जाएगा। जम्मू-कश्मीर विधानसभा का कार्यकाल 5 साल का होगा। जम्मू-कश्मीर की विधानसभा अपने प्रदेश के लिए किसी भी मुद्दे पर कानून बना सकेगी, लेकिन विधानसभा के पास पब्लिक ऑर्डर और पुलिस के मुद्दे पर कानून बनाने का अधिकार नहीं होगा।

और ख़बरें >

समाचार