महामीडिया न्यूज सर्विस
चांद से महज 119 किमी दूर चंद्रयान

चांद से महज 119 किमी दूर चंद्रयान

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 99 दिन 13 घंटे पूर्व
03/09/2019
बेंगलुरु [ महामीडिया ]भारत का चंद्रयान-2 शनिवार को एक बड़ा मुकाम हासिल करेगा और चांद की दक्षिणी सतह पर उतरेगा। इस लैंडिंग के साथ ही भारत चांद पर सॉफ्ट लैंडिंग करने वाला चौथा देश बन जाएगा वहीं इसके दक्षिणी हिस्से में उतरने का इतिहास रचेगा। भारत के इस मिशन पर पूरी दुनिया की नजरें और और अगले चार दिन इसके लिए बेहद अहम होंगे। मंगलवार सुबह 8.50 बजे एक 4 सेकंड का पहला de-orbiting maneuver किया गया जो इसे चांद के और करीब ले जाएगा। इसी तरह का दूसरा de-orbiting maneuver बुधवार को होगा। देश और दुनिया सांसे थामें इन चार दिनों तक चांद पर लैंडिंग का इंतजार करेगी।सोमवार को दोपहर करीब 1.15 बजे चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर से लैंडर "विक्रम" अलग हो गया। पांच दिन बाद जब यह चंदा मामा की अब तक अछूती सतह दक्षिण ध्रुव पर उतरेगा तब विक्रम में विराजित रोवर "प्रज्ञान" बाहर निकलेगा और वह चंद्रमा पर घूम-घूमकर इसरो के धरती पर स्थित मिशन कंट्रोल को संदेश व चित्र भेजेगा। लैंडर विक्रम की दूरी अब चांद की दूरी 119 किमी रह गई है और उसकी कक्षा से उसकी दूरी 127 किमी है। लैंडर 7 सितंबर की रात चांद पर उतरेगा। वहीं ऑर्बिटर अपनी मौजूदा कक्षा में एक साल तक चांद के चक्कर लगाता रहेगा। इसका जीवनकाल एक वर्ष का है।सात सितंबर शनिवार देर रात यानी रविवार को जब विक्रम चांद के दक्षिण ध्रुव पर उतरेगा तो भारत का नाम अंतरिक्ष इतिहास में दर्ज हो जाएगा। क्योंकि चांद के इस भाग पर अब तक किसी देश ने अपना मिशन नहीं भेजा है। यह अत्यंत दुर्गम व जटिल है।

और ख़बरें >

समाचार