महामीडिया न्यूज सर्विस
भारतीय वैज्ञानिक करिश्मा करने के लिए दिन रात जुटे

भारतीय वैज्ञानिक करिश्मा करने के लिए दिन रात जुटे

admin | पोस्ट किया गया 11 दिन 3 घंटे पूर्व
10/09/2019
बेंगलुरू (महामीडिया) देश के महत्वाकांक्षी मिशन चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम को लेकर उम्मीदें अभी कम नहीं हुई हैं। भारतीय वैज्ञानिक लैंडर विक्रम से संपर्क स्थापित करने के लिये दिन-रात जुटे हुये हैं। भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो के वैज्ञानिकों के अनुसार, चांद की सतह पर मौजूद विक्रम सही सलामत है और वह क्षतिग्रस्त नहीं हुआ है। वह सतह पर एक तरफ झुका हुआ पड़ा है। वहीं इसरो ने आज ट्वीट कर कहा कि चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर ने विक्रम लैंडर का पता तो लगा लिया, लेकिन उससे संपर्क नहीं हो पा रहा है। इसरो ने लिखा, 'लैंडर से संपर्क स्थापित करने की सारे संभव प्रयास किए जा रहे हैं।'
इसरो लैंडर विक्रम से संपर्क करने के लिए अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासाकी मदद लेने पर भी विचार कर रहा है, क्योंकि नासा का एक मिशन 'लूनर रीकॉनिसेंस ऑर्बिटर' चंद्रयान-2 के मुकाबले चांद के ज्यादा करीब चक्कर लगा रहा है इससे बेहतर डेटा मिल सकता है।
दरअसल, नासा के लूनर रीकॉनिसेंस ऑर्बिटर से चांद की 3डी तस्वीरें ली गई हैं। इन तस्वीरों में चंद्रमा में हुए बदलावों को साफ तौर पर देखा जा सकता है। अगर इसरो नासा के इस ऑर्बिटर के डेटा का इस्तेमाल करती है, तो विक्रम की ताजा पोजिशन पता चल सकती है। 
और ख़बरें >

समाचार