महामीडिया न्यूज सर्विस
हिमाचल में पैराग्लाइडिग तो उत्तराखंड में राफ्टिंग का दौर शुरू

हिमाचल में पैराग्लाइडिग तो उत्तराखंड में राफ्टिंग का दौर शुरू

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 25 दिन 17 घंटे पूर्व
18/09/2019
बैजनाथ[ महामीडिया ]  हिमाचल प्रदेश की बिलिंग घाटी दो माह बाद फिर से मानव परिदों से गुलजार हो गई है। अब पर्यटक दोबारा से इस घाटी का रुख कर रहे हैं। 15 जुलाई से 15 सितंबर तक बरसात का मौसम होने के कारण यहां पैराग्लाइडिंग पर रोक लग जाती है।बिलिंग पैराग्लाइडिग के लिए दुनिया की सर्वश्रेष्ठ घाटियों में शुमार है और इस कारण देश-विदेश के पैराग्लाइडर पायलट इस घाटी का रुख करते हैं। इस समय करीब 200 पायलट पैराग्लाइडिंग के लिए पर्यटन विभाग के पास पंजीकृत हैं और वे टेंडम और सोलो फ्लाइट करते हैं।सितंबर से नवंबर तक घाटी की हवा पैराग्लाइडिंग के लिए उपयुक्त होती है। घाटी में सालभर हजारों पर्यटक आते हैं। एसडीएम बैजनाथ छवि नांटा ने बताया कि बीड़ बिलिग में पैराग्लाइडिग फिर शुरू हो गई है। उत्तराखंड में मानसून काल में दो माह के विराम के बाद आखिरकार मंगलवार से गंगा में राफ्टिंग सत्र का आगाज हो गया। हालांकि इस बार गंगा का जलस्तर बढ़े होने के कारण सत्र शुरू होने में 16 दिन का विलंब हुआ।पहले दिन करीब 200 से अधिक पर्यटकों ने राफ्टिंग का लुत्फ लिया। गंगा के कौड़ियाला-मुनिकीरेती इको टूरिज्म जोन में रिवर राफ्टिंग की गतिविधि बेहद लोकप्रिय है। यही वजह है कि देश-विदेश से बड़ी संख्या में पर्यटक यहां राफ्टिंग का लुत्फ उठाने पहुंचते हैं।एक सितंबर से राफ्टिंग के नए सत्र का आगाज होता है, लेकिन इस बार अगस्त के दौरान पर्वतीय क्षेत्रों में हुई भारी बारिश के कारण एक सितंबर तक गंगा का जलस्तर राफ्टिंग के अनुकूल नहीं था। नतीजा इस दिन से राफ्टिंग सत्र शुरू नहीं किया जा सका।

और ख़बरें >

समाचार