महामीडिया न्यूज सर्विस
एक ऐसा शक्तिपीठ जिसकी मुसलमान भी करते हैं पूजा

एक ऐसा शक्तिपीठ जिसकी मुसलमान भी करते हैं पूजा

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 13 दिन 19 घंटे पूर्व
04/10/2019

भोपाल (महामीडिया) नवरात्रि के पावन पर्व पर अगर माता का वह मंदिर शक्तिपीठ है तो इसकी शान ही अलग हो जाती है। ऐसा ही एक शक्तिपीठ पाकिस्तान के बलूचिस्तान राज्य में स्थित है। इस शक्तिपीठ तक पहुंचने के लिए पाकिस्तान सरकार से इजाजत लेनी पड़ती है। शक्तिपीठ के पास में ही हिंगला नदी प्रवाहित होती है। माता का यह मंदिर हिंगलाज देवी शक्तिपीठ के नाम से जाना जाता है। माता हिंगलाज माता वैष्णों की तरह एक गुफा में बैठी हैं। 
पुराणों के अनुसार भगवान विष्णु के चक्र से कटकर यहां पर देवी सती का सिर गिरा था। इसलिए यह स्थान चमत्कारी और दिव्य माना जाता है। पाकिस्तान में मुसलमान, देवी हिंगलाज को नानी का मंदिर और नानी का हज भी कहते हैं। इस स्थान पर आकर हिंदू और मुसलमान का भेदभाव मिट जाता है। दोनों ही भक्ति पूर्वक माता की पूजा करते हैं।
हिंगलाज देवी के विषय में पुराण में ब्रह्मवैवर्त पुराण में कहा गया है कि जो एक बार माता हिंगलाज के दर्शन कर लेता है उसे पूर्वजन्म के कर्मों का दंड नहीं भुगतना पड़ता है। मान्यता है कि परशुराम जी द्वारा 21 बार क्षत्रियों का अंत किए जाने पर बचे हुए क्षत्रियों ने माता हिंगलाज से प्राण रक्षा की प्रार्थना की। माता ने क्षत्रियों को ब्रह्मक्षत्रिय बना दिया इससे परशुराम से इन्हें अभय दान मिल गया। एक मान्यता यह भी है कि रावण के वध के बाद भगवान राम को ब्रह्म हत्या का पाप लगा। इस पाप से मुक्ति पाने के लिए भगवान राम ने भी हिंगलाज देवी की यात्रा की थी। भगवान राम ने यहां पर एक यज्ञ भी किया था।

और ख़बरें >

समाचार