महामीडिया न्यूज सर्विस
केंद्र सरकार फिर बेचेगी कोल इंडिया की 10 फीसद हिस्सेदारी

केंद्र सरकार फिर बेचेगी कोल इंडिया की 10 फीसद हिस्सेदारी

admin | पोस्ट किया गया 14 दिन 14 घंटे पूर्व
04/10/2019
कोरबा  [ महामीडिया] कोल इंडिया का शेयर एक बार फिर बेचने की तैयारी कर ली गई है। संभावित निवेशकों के साथ विचार विमर्श करने के बाद 10 फीसद हिस्सेदारी बेचा जा सकता है। कंपनी ने 2019-20 में 66 करोड़ टन कोयला उत्पादन का लक्ष्य रखा है, जो पिछले वित्तीय वर्ष के मुकाबले आठ फीसद अधिक है। इसके पहले सरकार वर्ष 2015 में 10 फीसद हिस्सेदारी बेच चुकी है। उस वक्त भी ठीक हड़ताल के बाद यह निर्णय लिया गया था और इस बार भी अभी हाल ही में हुई हड़ताल के बाद यह खबर आ रही है। केंद्र की इस पहल से यूनियन प्रतिनिधि व कोयला कर्मचारी भौचक हैं। केंद्र शेयर बिक्री कर 40 हजार करोड़ रुपए जुटाएगी।कोल इंडिया लिमिटेड का निवेश एवं लोक परिसंपत्ति प्रबंधन विभाग केंद्र शेयर बेचने के लिए मुंबई में प्रचार-प्रसार करेगा। इसके तहत अधिकारी कंपनी में और विनिवेश को लेकर मौजूदा और संभावित निवेशकों के साथ विचार विमर्श करेंगे। सरकार ने पिछले साल 3.18 फीसद शेयर बेचा था, जबकि इसके पहले 2015 में दस फीसद शेयर बेचा था। बताया जा रहा है कि इससे 40 हजार करोड़ रुपए अर्जित करने का लक्ष्य रखा गया है। यहां यह बताना लाजिमी होगा कि शेयर बेचने का कोयला क्षेत्र की पांचों यूनियन क्रमश: एटक, एचएमएस, बीएमएस, इंटक तथा सीटू विरोध करते रहे हैं। बावजूद केंद्र सरकार शेयर बेच रही है। खास बात यह है कि जनवरी 2015 में सभी श्रमिक संघ संयुक्त रूप से हड़ताल पर गई थीं।तब तत्कालीन कोयला मंत्री पीयूष गोयल की उपस्थिति में त्रिपक्षीय वार्ता में सहमति बनी और दो दिन में हड़ताल खत्म हो गई। इस दौरान यह तय किया गया था कि शेयर बेचने के पूर्व संयुक्त कमेटी के साथ चर्चा की जाएगी, तदुपरांत आगे निर्णय लिया जाएगा। इसके बाद अभी तक इस मसले पर बैठक ही नहीं हो सकी। बीते सितंबर माह में श्रमिक संघ ने एफआईडी के खिलाफ हडताल की और केंद्र सरकार एक बार फिर शेयर बेचने जुट गई है।


और ख़बरें >

समाचार