महामीडिया न्यूज सर्विस
धनतेरस के चलते भोपाल के बाजार में रौनक

धनतेरस के चलते भोपाल के बाजार में रौनक

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 29 दिन 11 घंटे पूर्व
23/10/2019
भोपाल[ महामीडिया ]धनतेरस के लिए शहर के मुख्य बाजार त्योहार के नजदीक आते ही मार्केट में भीड़ बढ़ती जा रही है। न्यूमार्केट, दस नंबर, चौक बाजार, सिंधी मार्केट, मंगलवारा किराना मार्केट के अलावा बर्तन बाजार, सर्राफा आदि बाजार ग्राहकों के लिए तैयार हैं। काफी दिनों बाद बाजार में रौनक दिखने की उम्मीद है। इधर, फेस्टिवल सीजन की वजह से रेलवे स्टेशन व बस स्टैंड पर भीड़ बढ़ गई है। कामकाजी लोग त्योहार पर अपने घरों की ओर रूख करने लगे हैं।न्यूमार्केट, दस नंबर मार्केट सहित अन्य स्थानों पर धनतेरस के लिए पीतल, स्टील धातु के बर्तन से बाजार सज गया है। दुकानदारों ने बर्तनों की खेप पहले से मंगा रखी है। दुकानों पर बर्तन कारोबारी ग्राहकों का इंतजार कर रहे हैं। गृहणियां ऐन वक्त पर बाजार की भीड़ से बचने के लिए कई दिन पूर्व बर्तनों की खरीदारी कर लेती हैं, लेकिन इस बार शहर के बर्तन बाजार में अभी ग्राहकी न के बराबर है। धनतेरस को दो दिन बाकी हैं, ऐसे में बर्तन कारोबारियों को काफी उम्मीद है।दीपावली के त्योहार पर मंदिरों से लेकर घर-घर में साफ-सफाई का कार्य हफ्तों पूर्व से चल रहा है। पर्व के नजदीकी आते ही इस कार्य में और तेजी देखी जा रही है। बिड़ला मंदिर में महालक्ष्मी जी की विशेष रूप से पूजा होगी, इसलिए यहां मंदिर में सफाई कार्य चल रहा है। दीवारों को आकर्षक बनाने के लिए रंग-रोगन में लोग लगे हुए हैं।हलालपुरा पटाखा बाजार में छोटा भीम, रोमांटिक्स, दिलखुश, चांदनी, फुलझड़ी धूम मचाने के लिए तैयार रखी है। बाजार में छोटा भीम की ज्यादा मांग है। नेशनल फायर वर्क्स के व्यापारी अमन का कहना है कि महंगे केमीकलयुक्त पटाखे और समय पर सप्लाई नहीं होने से पटाखों के दामों में 10 से 20 फीसदी तक महंगाई देखी जा रही है। इसके बाद भी हलालपुर के पटाखा बाजार में 30 से 40 फीसदी का कंसेशन करके विक्रय किए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि पटाखा बाजार में इस बार सुप्रीमकोर्ट की गाइडलाइन के अनुसार तमिलनाडू के शिवाकाशी में बनाए जा रहे हैं। पहले जो केमीकल का उपयोग होता था, उससे अधिक धुंआ निकलता था। इस वर्ष कंपनियों ने तीन गुना महंगे केमिकल का उपयोग किया है, इससे नामात्र का ही धुंआ निकलेगा।धनतेरस के लिए पूजा से संबंधित चांदी की मूर्ति और सिक्का आदि समान खरीदने में ही लोगों की रुचि है। हालांकि पिछले साल की तुलना में अभी ग्राहकों की कमी है। वजन में एक तोले वाला सिक्का 500 से 650 रुपए में बिक रहा है। 
और ख़बरें >

समाचार