महामीडिया न्यूज सर्विस
धनतेरस पर तमिलनाड़ु के धनवंतरि मंदिर में विशेष हवन किया जाएगा

धनतेरस पर तमिलनाड़ु के धनवंतरि मंदिर में विशेष हवन किया जाएगा

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 25 दिन 6 घंटे पूर्व
25/10/2019
चेन्नई (महामीडिया) आज धनतेरस है। इस तिथि पर देवताओं के वैद्य भगवान धनवंतरि की पूजा की जाती है। तमिलनाड़ु में वेल्लोर जिले के वालाजपेट क्षेत्र में भगवान धनवंतरि का मंदिर स्थित है। मंदिर का नाम श्री धनवंतरि आरोग्य पीड़म है। धनतेरस पर मंदिर में विशेष हवन किया जाएगा। इस हवन में हजारों भक्त रोगों से मुक्ति पाने के लिए शामिल होंगे। वेल्लोर से वाजालपेट की दूरी करीब 30 किमी है। दीपावली पर सिर्फ दो दिन भगवान धनवंतरि का विशेष प्रसाद वितरित किया जाता है। ये प्रसाद भक्तों की रोगों से रक्षा करता है। 
मान्यता है कि प्राचीन समय में देवताओं और असुरों ने मिलकर समुद्र मंथन किया था। इस समुद्र मंथन से कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि पर देवताओं के वैद्य धनवंतरि एक हाथ में अमृत कलश लेकर प्रकट हुए थे। धनवंतरि को भगवान विष्णु का अवतार माना जाता है। इस कारण हर साल धनतेरस पर धनवंतरि जयंती मनाई जाती है। धनवंतरि की पूजा करने से रोगों के लाभ मिलता है।
मंदिर की खास बातें
इस मंदिर की स्थापना 15 वर्ष पूर्व 15 दिसंबर 2004 में हुई थी। ये मंदिर चेन्नई से करीब 110 किमी दूर स्थित है। यहां अच्छे स्वास्थ्य की कामना लेकर काफी भक्त आते हैं। मंदिर में धनवंतरि भगवान के अलावा 78 अन्य देवी-देवताओं की प्रतिमाएं स्थापित हैं।
मंदिर में नियमित रूप से अलग-अलग देवी-देवताओं के अलग-अलग हवन होते रहते हैं। यहां के हवन ही इस मंदिर की विशेषता है। यहां एक लाख आंवले का हवन, एक लाख लड्डू का हवन, एक लाख कमल का हवन, छह हजार किलो लाल मिर्ची का हवन, सहस्र चंडी हवन भी मंदिर में हो चुका है।
भगवान धनवंतिर मंदिर में पंचमुखी गायत्री, दत्तात्रेय, लक्ष्मी, कार्तवीर्यार्जुन, सांई बाबा, शनि मंदिर, भारत माता मंदिर और 468 शिवलिंग भी यहां स्थापित हैं।
मंदिर में भव्य हवन कुंड स्थित हैं। यहां अच्छे स्वास्थ्य की कामना से हवन किया जाता है। कुंड में कई प्रकार की औषधियां, जड़ी बूटियां, फल-फूल से आहुति दी जाती है।

और ख़बरें >

समाचार