महामीडिया न्यूज सर्विस
ज्योतिर्लिग महाकाल के साथ दिवाली मनाएंगी उज्जयिनी

ज्योतिर्लिग महाकाल के साथ दिवाली मनाएंगी उज्जयिनी

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 17 दिन 1 घंटे पूर्व
26/10/2019
उज्जैन [ महामीडिया ]  महाकाल मंदिर में एक दिन पहले यानी चतुर्दशी को दिवाली मनाई जाती है, लेकिन 23 साल बाद यह विशेष संयोग आया है, जब चतुर्दशी और अमावस्या एक ही दिन हैं। शिवभक्तों में इसे लेकर खासा उत्साह है और उज्जैन के साथ-साथ ज्योतिर्लिग महाकाल मंदिर में तैयारियां जोरों पर हैं।पंडित महेश पुजारी ने बताया, परंपरानुसार राजाधिराज बाबा महाकाल के आंगन में कार्तिक अमावस्या से एक दिन पूर्व दीपपर्व मनाया जाता है।किंतु इस बार रूप चतुर्दशी और अमावस्या एक ही दिन होने से विशेष संयोग बन रहा है। ज्योतिलिर्ंग में इस बार 27 अक्टूबर को दिवली मनाई जाएगी। 23 साल बाद ऐसा संयोग बन रहा है, जब शिवनगरी की प्रजा अपने महाराजा महाकाल के साथ दीपपर्व मनाएगी। मंदिर में इसकी तैयारियां शुरू हो गई हैं।परंपरानुसार महाकाल मंदिर में चतुर्दशी के दिन तड़के भस्मारती में दिवाली मनाई जाती है। इस बार 27 को यानी दिवाली वाले दिन तड़के चार बजे यह विशेष पूजा होगी। भगवान को गर्म जल से स्नान कराने के बाद सबसे पहले पुजारी परिवार की महिलाएं भगवान को केसर, चंदन से निर्मित उबटन लगाएंगी। इसके बाद भगवान को सुगंधित द्रव्यों से स्नान कराया जाएगा। सोने-चांदी के आभूषण धारण कराने के बाद नवीन वस्त्र पहनाएं जाएंगे। इसके बाद अन्नकूट लगाकर फुलझड़ी आरती होगी। महाकाल मंदिर में देव दिवाली देखने के लिए देश-विदेश से भक्त उमड़ेंगे। शाम को भी दीपावली मनेगी, संध्या आरती में भी भगवान के समक्ष दीप सज्जा कर प्रतीकस्वरूप फुलझड़ी चलाई जाएगी। 
और ख़बरें >

समाचार