महामीडिया न्यूज सर्विस
शांति और विकास चाहते हैं कश्मीरी-यूरोपियन यूनियन के सांसद

शांति और विकास चाहते हैं कश्मीरी-यूरोपियन यूनियन के सांसद

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 21 दिन 14 घंटे पूर्व
30/10/2019
श्रीनगर [ महामीडिया ] अनुच्छेद 370 हटने के बाद कश्मीर दौरे पर आए यूरोपियन यूनियन के सांसदों ने अपने दौरे के दूसरे दिन भारतीय मीडिया के सामने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए अपने अनुभव साझा किए। अपने इस दौरे के बाद सासंदों के दल की तरफ से मीडिया को संबोधित करते हुए एक सदस्य ने इस दौरे को लेकर भारतीय मीडिया द्वारा दी गई खबरों पर प्रतिक्रिया देते हुए इसे गलत करार दिया। उन्होंने कहा कि हमारे दौरे को गलत तरीके से पेश किया गया है। हम यहां घूमें और यहां के हालातों को देखा जिसके बाद हम कह सकते हैं कश्मीर के लोग शांति और विकास चाहते हैं।वहीं एक अन्य सासंद ने कहा कि हमें राजनीति से लेना-देना नहीं। हम अफगानिस्तान के अलावा सीरीया व अन्य देशों का दौरा भी कर चुके हैं। हम कश्मीर में भी तथ्य इकट्ठे करने आए हैं। यहां के जमीनी हालात और सरकार द्वारा लाए जा रहे बदलावों के बारे में जानना चाहते थे। हमने लोगों से बात की तो वो भारतीय नागरिक के रूप में आगे बढ़ना चाहते हैं। एक भारतीय के रूप में अपनी पहचान चाहते हैं। हम उम्मीद करते हैं कि यहां हालात और सुधरेंगे।सांसद ने आगे कहा कि हम नाजी नहीं है। भारतीय मीडिया में हमारे बारे में जो बातें और बयान दिए जा रहे हैं वो गलत हैं हम ऐसे नहीं है। विकीपीडिया व अन्य जगहों पर जो जानकारी उपलब्ध है उसे बताने और प्रसार करने से पहले लोगों को सोचना चाहिए। हम अगर नाजीवादी होते तो हमें जनता नहीं चुनती।एक अन्य सासंद ने अपनी बात रखते हुए कश्मीर में मजदूरों की हत्या पर दुख जताते हुए कहा कि हम यहां तथ्य जुटाने आए हैं और दुनिया भर में आतंक के खिलाफ लड़ाई चल रही है। हम भारत को दूसरा अफगानिस्तान नहीं बनने देना चाहते। हम लोगों से मिले और कईं मसलों पर बात हुई। वो लोग विकास चाहते हैं और स्कूल कॉलेज समेत और भी चीजों का विकास चाहते हैं।मीडिया से बात कर रहे सासंदों में शामिल चौथे सांसद ने कहा कि कश्मीर में लोग विकास चाहते हैं और जमीनी हालात बेहतर हैं। लोगों का कहना है कि कश्मीर में भारी भ्रष्टाचार है, यहां केंद्र की तरफ से काफी पैसा आता है लेकिन विकास के काम नहीं होते।

और ख़बरें >

समाचार