महामीडिया न्यूज सर्विस
दिल्ली-हरियाणा और उत्तराखंड में सांस की बीमारी से मरने वालों की तादाद बढ़ी

दिल्ली-हरियाणा और उत्तराखंड में सांस की बीमारी से मरने वालों की तादाद बढ़ी

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 35 दिन 23 घंटे पूर्व
01/11/2019
नई दिल्ली (महामीडिया) दिल्ली-एनसीआर में स्मॉग के दमघोंटू माहौल में राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्रोफाइल-2019 की रिपोर्ट में सांस से जुड़ी बीमारियों को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है। इसके मुताबिक पिछले कुछ वर्षों में सांस की बीमारी से मरने वालों की तादाद लगातार बढ़ रही है।
वर्ष 2018 में तीव्र श्वसन संक्रमण से 3,740 मरीजों की मौत हुई। इनमें पश्चिम बंगाल के 732, यूपी के 699, दिल्ली के 492, उत्तराखंड के 86, हिमाचल के 145, हरियाणा के आठ और पंजाब के 24 लोगों की जान सांस संबंधी बीमारी से गई है। देश में 4.19 करोड़ लोग सांस की बीमारियों की चपेट में हैं।
केंद्रीय स्वास्थ्य बुद्धिमत्ता ब्यूरो की इस रिपोर्ट के मुताबिक 2018 में सबसे ज्यादा 69.47 फीसदी मरीज सांस से जुड़ी बीमारियों के मिले। डायरिया के 21.83, टाइफाइड के 3.82, टीबी के 1.76, मलेरिया के 0.66 और निमोनिया के 1.54 फीसदी मरीज मिले। इस दौरान 57.86 फीसदी मरीजों की मौत निमोनिया और सांस की बीमारियों से हुई। दिल्ली एम्स के डॉक्टरों के मुताबिक सांस से जुड़े रोगों में काला दमा सबसे ज्यादा जानलेवा साबित हो रहा है। 
और ख़बरें >

समाचार