महामीडिया न्यूज सर्विस
आडवाणी हैं नींव का रत्न-उमा भारती

आडवाणी हैं नींव का रत्न-उमा भारती

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 29 दिन 21 घंटे पूर्व
10/11/2019
भोपाल [ महामीडिया ]अयोध्या में बाबरी ढांचा ढहाये जाने के मामले में प्रदेश भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं आरोपी जयभान सिंह पवैया ने अयोध्या मामले पर उच्चतम न्यायालय के फैसले को भारत के सम्मान और स्वाभिमान की विजय बताया है। बाबरी ढांचा ढहाये जाने के दौरान पवैया बजरंग दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष थे। तब सात दिसंबर से 20 दिसंबर 1992 तक 13 दिनों तक पवैया जेल में भी बंद रहे। वहीं भाजपा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष उमा भारती ने एक के बाद एक कई ट्वीट कर कहा कि 'आज हमारी पार्टी सत्ता की शीर्ष पर है, दुनिया में मोदी जी की जय-जयकार है, भारत परम वैभव तथा परम शक्तिशाली राष्ट्र होने की ओर है, इसकी नींव में जो रत्न थे, उनमें से एक जगमगाता हुआ रत्न है आडवाणी जी।"मुख्य आरोपितों में शामिल उमा भारती ने एक और ट्वीट में कहा कि 'आडवाणी जी ही वह भारतीय राजनीति के पुरोधा हैं जिन्होंने साम्प्रदायिकता के खिलाफ बहस भारत के राजनीति के पटल पर छेड़ी थी। उसी बहस के मंथन में से अयोध्या आंदोलन आगे बढ़ा।अयोध्या में बाबरी ढांचा ढहाने के मामले में लखनऊ की सीबीआई अदालत में चल रहे मुकदमे में भाजपा के वरिष्ठ नेताओं लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती और अन्य के साथ जयभान सिंह पवैया भी एक आरोपित हैं।पवैया ने उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद शनिवार को कहा कि यह फैसला हिन्दू और मुसलमान की जय-पराजय से भी बड़ा मुद्दा है। मैं इसे दो समुदायों के बीच हार या जीत के तौर पर नहीं देखता हूं। यह भारत के सम्मान की, भारत के स्वाभिमान की विजय है और यह न्यायपालिका का एक अद्भुत और क्रांतिकारी फैसला है।पवैया ने कहा कि मेरे जैसे हजारों लोग हैं जिन्होंने आधा जीवन इस पवित्र उद्देश्य के लिए झोंक दिया। वे इतने अभिभूत हैं कि उनके पास इसे व्यक्त करने के लिए शब्द नहीं हैं।सुप्रीम कोर्ट भी साधुवाद का पात्र है क्योंकि उसने 40 दिन तक सभी पक्षों के तर्कों को देश के सामने आने दिया और एक विदेश आक्रांता द्वारा बनाई निशानी को खारिज करते हुए रामजन्मभूमि को स्वीकार किया। इसे हिंदू-मुस्लिम के बीच जय-पराजय से जोड़ना छोटी बात होगी, ये आस्था की जीत है।

और ख़बरें >

समाचार