महामीडिया न्यूज सर्विस
सावन विशेष: बाबा गरीबनाथ करते हैं सबकी मनोकामना पूरी

सावन विशेष: बाबा गरीबनाथ करते हैं सबकी मनोकामना पूरी

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 769 दिन 15 घंटे पूर्व
10/07/2017
पटना [महामीडिया]: सावन का पवित्र महीना आज से शुरू हो गया है। इस महीने में भगवान शिव की विशेष पूजा अर्चना की जाती है, भोलेनाथ की पूजा सच्चे दिल से की जाए तो वो तुरत प्रसन्न होते हैं तो अपने भक्तों की हर मुराद पूरी करते हैं। वैसे सावन में देवघर के बाबा वैद्यनाथ मंदिर में जलाभिषेक के लिए दूर-दूर से श्रद्धालु आते हैं ठीक वैसे ही मुजफ्फरपुर स्थित बाबा गरीबनाथ में भी भगवान शिव के जलाभिषेक के लिए बिहार के कोने-कोने से लोग पहुंचते हैं। मान्यता है कि सावन में बाबा गरीबनाथ भक्तों की हर मनोकामना पूरी करते हैं। सावन का महीना शुरू हो गया है और इसके साथ ही बाबा गरीबनाथ धाम की महत्‍ता भी बढ़ गई है। सावन के महीने में बाबा गरीबनाथ की पूजा-अर्चना के लिए दूर-दूर से श्रद्धालु आते हैं। इस पावन महीने के हर सोमवार को सोनपुर के पहलेजा घाट से गंगा जल लाकर कांवड़िए बाबा गरीबनाथ की पूजा अर्चना करते हैं। झारखंड के बिहार से अलग होने के बाद बाबा गरीबनाथ मंदिर में देवघर के बाद सबसे अधिक श्रद्धालु आते हैं। बाबा गरीबनाथ मंदिर को उत्तर बिहार के बाबा बैद्यनाथ के रूप में जाना जाने लगा है। यहां सालोभर पूजा-अर्चना के लिए शिवभक्तों की भीड़ लगी रहती है। सावन महीने में तो भक्तों का रेला ही उमड़ पड़ता है। यहां दूरदराज के लोग पूजा के लिए आते हैं। मंदिर का काफी पुराना इतिहास है। ऐतिहासिक और धार्मिक मान्यताओं के अनुसार बाबा गरीबनाथ धाम का तीन सौ साल पुराना इतिहास रहा है। लेकिन मिले दस्तावेज के अनुसार 1812 ई. में इस स्थान पर छोटे मंदिर में बाबा की पूजा-अर्चना होती रही थी।
मान्यता है कि यहां के घने जंगल में सात पीपल के पेड़  थ। एक बार जंगल की सफाई के दौरान किसी मजदूर की कुदाल से कोई चीज टकराई। उसने देखा कि वहां से खून की धारा बह रही है। वह डरकर भाग गया और ये बातें दूसरों को बताईं। लोग दौड़े-दौड़े वहां आए। जब उन पेड़ों को काटा गया तो अचानक खून जैसे लाल पदार्थ निकलने के बाद विशालकाय शिवलिंग मिला। उसके बाद जो उस जमीन का मालिक था उसे रात में बाबा ने स्वप्न दिया, जिसके बाद शिवलिंग की स्थापना कर वहां विधिवत पूजा-अर्चना की जाने लगी। मान्यता यह भी है कि एक बेहद ही गरीब आदमी को अपनी बेटी का विवाह करना था और उसके लिए घर में कुछ भी नहीं था, वह बाबा के मंदिर में गया और रोते हुए कहा-बाबा कैसे होगी मेरी बेटी की शादी? इसके लिए उसने बाबा का जलाभिषेक किया और चिंतामग्न था, कहते हैं उस गरीब आदमी की श्रद्धाभक्ति से प्रसन्न होकर शिव ने उसकी परेशानी दूर कर दी और बेटी की शादी के सारे सामानों की आपूर्ति अपने-आप हो गई। तबसे से लोगों के बीच मंदिर का नाम बाबा गरीबनाथ धा्म के रूप में जाना जाने लगा।
ऐसी मान्यता है कि बाबा गरीबनाथ सबकी मनोकामना पूर्ण करते हैं। जो भी भक्त सच्चे मन से बाबा के दरबार में आता है, खाली हाथ नहीं लौटता। सावन व महाशिवरात्रि सहित विशेष अवसरों पर यहां भक्तों का सैलाब उमड़ पड़ता है। बाबा गरीबनाथबाबा की प्रसिद्धि दिन-प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है।
यहां मुजफ्फरपुर क्या राज्य के विभिन्न जिले और सुदूर प्रांतों से भी लोग बाबा की पूजा-अर्चना के लिए आते हैं। सावन में हर साल श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती है।

और ख़बरें >

समाचार