महामीडिया न्यूज सर्विस
मंगलवार से शुरू हो रहे हैं चैत्र नवरात्र

मंगलवार से शुरू हो रहे हैं चैत्र नवरात्र

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 876 दिन 16 घंटे पूर्व
28/03/2017
नई दिल्ली [महामीडिया]:  कल यानी मंगलवार 28 मार्च से चैत्र नवरात्र के साथ ही जगह-जगह धार्मिक आयोजन शुरू हो जाएंगे. साल 2017 के चैत्र नवरात्र के साथ ही हिन्दू नवसंवत्सर भी शुरू होगा. 9 दिनों तक चलने इस पूजा में तक देवी दुर्गा के नौ स्वरूपों की पूजा अर्चना की जाएगी. वसंत ऋतु में होने के कारण चैत्र नवरात्र को वासंतीय या वासंतिक नवरात्र भी पुकारा जाता है. 28 मार्च से शुरू होने वाले यह चैत्र नवरात्र 5 अप्रैल तक चलेंगे और 9 दिन 9 देवियों की आराधना की जाएगी. वैसे तो एक वर्ष में चैत्र, आषाढ़, आश्विन और माघ के महीनों में कुल मिलाकर 4 बार नवरात्र होते हैं, हालांकि चैत्र और आश्विन नवरात्र ही इनमें सबसे ज्यादा लोकप्रिय हैं. चैत्र नवरात्र को शुक्लादी, उगादि, गुड़ी पड़वा, चेटी चंद, नवरेह, साजिबू चीरौबा के रूप में अलग-अलग राज्यों में मनाया जाता है. चैत्र शुक्लादी को उत्तर भारत में पारंपरिक नए साल के रूप में मनाया जाता है. वहीं उगादि कर्नाटक में, नवरेह कश्मीर में, चेती आनंद सिंधु में, साजिबू चीरौबा मणिपुर में और गुड़ी पड़वा महाराष्ट्र में मनाया जाता है.
कल 28 मार्च को नवरात्र के पहले दिन कलश स्थापना के साथ देवी शैलपुत्री की पूजा होगी. इसका शुभ मुहूर्त सुबह 08 बजकर 26 मिनट से लेकर 10 बजकर 24 मिनट तक का बताया जा रहा है.
29 मार्च यानी नवरात्र के दूसरे दिन द्वितीया मां ब्रह्मचारिणी की पूजाअर्चना की जाएगी.
30 मार्च को देवी मां चंद्रघंटा का पूजन किया जाएगा. वहीं इसके साथ गणगौरी पूजन भी होगा.
31 मार्च को मां के चौथे स्वरूप देवी कूष्मांडा का पूजन संपन्न होगा, इसी दिन श्री सिद्धि विनायक चतुर्थी व्रत का शुभ समय भी साथ ही चलेगा.
1 अप्रैल को मां स्कन्दमाता की पूजा की जाएगी जिन्हें शिवपुत्र कार्तिकेय की मां स्कंदमाता के रूप में जाना जाता है.
2 अप्रैल यानी नवरात्र के छठे दिन देवी कात्यायनी के पूजन का दिन है.
3 अप्रैल को कालरात्रि मां की पूजा की जाएगी और इस दिन को तंत्रमंत्र की साधना करने वालों के लिए खास दिन माना जाता है.
4 अप्रैल को आठवीं देवी महागौरी का पूजन होगा और श्री दुर्गा अष्टमी व्रत, महा अष्टमी के साथ अष्टमी पूजने वाले लोग कंजकों का पूजन करेंगे. इस दिन लोग देवी स्वरूप कन्याओं का पूजन करते हैं. इस पूजा का समय हालांकि सुबह 11 बजकर 21 मिनट तक का ही बताया जा रहा है और इसके बाद नवमी आरंभ मानी जाएगी.
5 अप्रैल बुधवार को देवी भगवती के नवम स्वरूप सिद्धिदात्री का पूजन होगा. इस श्री दुर्गा नवमी के साथ ही श्री राम नवमी, महानवमी, श्री राम जन्म महोत्सव मनाया जाएगा. देवी सिद्धिदात्री की पूजा पूरी करने के बाद ही नवरात्र में नवदुर्गा पूजा का अनुष्ठान पूरा होता है. कई लोग पूरे दिन अखंड ज्योत देवी की पूजा के लिए जलाते हैं और नवम दिन खत्म होने तक दिया का जलना शुभ मानते हैं.
वहीं आज राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने सोमवार को भारतीय नववर्ष की लोगों को शुभकामनाएं दी. राष्ट्रपति ने विक्रम संवत कैलेंडर के अनुसार नववर्ष की पूर्व संध्या पर अपने बधाई संदेश में कहा, ?मैं चैत्र शुक्लादी, उगादि, गुड़ी पड़वा, चेटी चंद, नवरेह, साजिबू चीरौबा के पावन अवसर पर सभी नागरिकों को बधाई और शुभकामनाएं देता हूं.
लोगों को शुभकामनाएं देते हुए उन्होंने कहा, ये शुभ त्योहार बसंत के आगमन और वृद्धि, समृद्धि और कल्याण की नई शुरुआत का प्रतीक है. इन त्योहारों से प्रत्येक भारतीय का मन खुशी और प्रसन्नता से भर जाता है. मैं कामना करता हूं कि लोगों के बीच सहिष्णुता और पारस्परिक सौहार्द बढ़े.? उन्होंने कहा, ?इन त्योहारों से लोगों के बीच शांति और मित्रता फैले और हमारे नागरिक मातृभूमि की सेवा में स्वयं को समर्पित करने के लिए प्रेरित हों.

और ख़बरें >

समाचार