महामीडिया न्यूज सर्विस
निजी कॉलेजों ने मेरिट की जगह मनमर्जी से भर ली MBBS सीटें!

निजी कॉलेजों ने मेरिट की जगह मनमर्जी से भर ली MBBS सीटें!

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 40 दिन 20 घंटे पूर्व
12/09/2017
भोपाल। (महामीडिया): प्रदेश के निजी मेडिकल और डेंटल कॉलजों में एमबीबीएस और बीडीएस में दाखिले के लिए कॉलेज लेवल काउंसलिंग (माप-अप राउंड)में कई तरह की गड़बड़ी की शिकायतें सामने आई हैं। दो निजी मेडिकल कॉलेजों में शासन द्वारा दी गई मेरिट लिस्ट से हटकर उम्मीदवारों को दाखिला देने के आरोप लग रहे हैं। इस वजह से इन कॉलेजों ने कॉलेज लेवल काउंसलिंग में हुए दाखिले की जानकारी भी सोमवार को संचालनालय चिकित्सा शिक्षा (डीएमई)को नहीं दी है।
सुप्रीम कोर्ट के निर्देशानुसार माप-अप राउंड के लिए उम्मीदवारों की मेरिट सूची संचालनालय चिकित्सा शिक्षा द्वारा कॉलेजों को दी गई थी। इसमें आखिरी मेरिट 422 अंक पाने वाले उम्मीदवार की थी। मेरिट में दिए गए उम्मीदवारों को ही दाखिला देना था। सूत्राें ने बताया कि दो कॉलेजों ने मेरिट सूची को दरकिनार कर इस अंक से कम वाले उम्मीदवारों को दाखिला दे दिया है। इन कॉलेजों ने अभी तक दाखिल छात्रों की सूची भी संचालनालय चिकित्सा शिक्षा को नहीं दी है।

यह भी हुई गड़बड़ी
- माप-अप राउंड में छात्रों को मेरिट के अनुसार दाखिले देने थे, लेकिन कॉलेजों ने डीएमई द्वारा दी गई सूची से मेरिट की जगह अपनी मर्जी से दाखिले दिए।
- प्रवेश नियमों के अनुसार पहले मप्र के उम्मीदवारों से सीटें भरी जानी थी। मप्र का उम्मीदवार नहीं मिलने पर दूसरे राज्यों के उम्मीदवारों को दाखिला दिया जा सकता था। माप-अप राउंड के लिए साफ दिशा निर्देश नहीं होने की वजह से ज्यादातर सीटें बाहरी उम्मीदवारों से भरी गईं।
-कई कॉलेजों ने एमबीबीएस व बीडीएस सीटों की जानकारी दूसरे दिन भी डीएमई को नहीं दी, जबकि रात 12 बजे तक दाखिले के बाद अगले दिन छात्रों के नाम सहित पूरी जानकारी डीएमई को देना थी।

और ख़बरें >

समाचार