महामीडिया न्यूज सर्विस
छठ पूजा जरूरी है, जड़ों से जुड़े रहने के लिए

छठ पूजा जरूरी है, जड़ों से जुड़े रहने के लिए

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 754 दिन 4 घंटे पूर्व
25/10/2017
नहाय खाय के साथ ही आज से 4 दिन का छठ पर्व शुरू हो गया है। इसके साथ ही सोशल मीडिया पर छठ को लेकर कई तरह के मैसेज वायरल हो रहे हैं। इन्हीं में से एक मैसेज में कहा जा रहा है कि छठ पूजा जरूरी है, धर्म के लिए नहीं, बल्कि जड़ों से जुड़े रहने के लिए। मैसेज में आगे कहा गया है कि ये छठ जरूरी है, हम-आप सभी के लिए, जो अपनी जड़ों से कट रहे हैं। उन बेटों के लिए जिनके घर आने का ये बहाना है। ये छठ जरूरी है, उस मां के लिए जिसे अपनी संतान को देखे महीनों हो जाते हैं। उस परिवार के लिए, जो टुकड़ो में बंट गया है।
ये छठ जरूरी है, उस नई पौध के लिए जिन्हें, नहीं पता कि दो कमरों से बड़ा भी घर होता है। उनके लिए जिन्होंने नदियों को सिर्फ किताबों में ही देखा है। ये छठ जरूरी है, उस परंपरा को जिंदा रखने के लिए जो समानता की वकालत करती है। जो बताती है कि बिना पुरोहित के भी पूजा हो सकती है। ये छठ जरूरी है, जो सिर्फ उगते सूरज को ही नहीं डूबते सूरज को भी प्रणाम करना सिखाता है। ये छठ जरूरी है, ये छठ जरूरी है, बांस के सूप और दउरा को बनाने वालों के लिए। ये बताने के लिए कि इस समाज में उनका भी महत्व है। ये छठ जरूरी है, उन दंभी पुरुषों के लिए जो नारी को कमजोर समझते हैं।

और ख़बरें >

समाचार