महामीडिया न्यूज सर्विस
आज विश्व मधुमेह दिवस

आज विश्व मधुमेह दिवस

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 6 दिन 7 घंटे पूर्व
14/11/2017
नई दिल्ली (महामीडिया)  अध्ययन की रिपोर्ट में यह बात सामने आई कि 2008 से 2012 के बीच इंसुलिन की बिक्री 151.2 करोड़ रुपए से 218.7 करोड़ रुपए हो गई। 2012 से बढ़ते हुए 2016 में यह बिक्री 842 करोड़ रुपए के स्तर पर पहुंच गई। मधुमेह रोगियों की ओर से ली जाने वाली दवाओं और इंसुलिन पर कराए गए एक अध्ययन में सामने आया है कि नौ साल की अवधि में इंसुलिन की बिक्री में पांच गुना से अधिक की बढ़ोतरी दर्ज की गई, वहीं डायबिटीज की ओरल दवाओं में चार साल की अवधि में ढाई गुना की वृद्धि दर्ज की गई। इनमें खासतौर पर नई दवाओं और इंसुलिन की बिक्री तेजी से बढ़ी है जिस पर चिंता जताई गई है। जाने-माने मधुमेह रोग विशेषज्ञ और नेशनल डायबिटीज ओबेसिटी एंड कॉलेस्ट्रॉल फाउंडेशन के अध्यक्ष डॉ प्रो अनूप मिश्र के नेतृत्व में देशभर में मधुमेह-रोधी ओरल दवाओं और इंसुलिन की बिक्री का अध्ययन किया गया और इस रोग की नई दवाओं और इंसुलिन व पुरानी दवाओं के पैटर्न में बदलाव का आकलन किया गया। विश्व मधुमेह दिवस के अवसर पर जारी अध्ययन की रिपोर्ट में यह बात सामने आई कि 2008 से 2012 के बीच इंसुलिन की बिक्री 151.2 करोड़ रुपए से 218.7 करोड़ रुपए हो गई। 2012 से बढ़ते हुए 2016 में यह बिक्री 842 करोड़ रुपए के स्तर पर पहुंच गई। यानी नौ साल में इसमें पांच गुना से अधिक वृद्धि दर्ज की गई। इसकी मुख्य वजह रोगियों और डॉक्टरों में इंसुलिन बाकी पेज 8 पर के इस्तेमाल के प्रति निष्क्रियता में कमी आना रही। इसके साथ ही रोगियों की संख्या बढ़ना और कंपनियों का बढ़-चढ़कर किया जाने वाला प्रचार भी मुख्य कारणों में हैं। इसी तरह गोलियों या कैप्सूल के रूप में ली जाने वाली मधुमेह-रोधी दवाओं की बिक्री भी तेजी से बढ़ी है। 2013 में यह बिक्री 278 करोड़ रुपए दर्ज की गई जो 2016 में 700 करोड़ रुपए के स्तर पर पहुंच गई। अध्ययन में यह बात भी सामने आई कि डायबिटीज की वजह से किडनी की पुरानी बीमारियां भारतीयों में अधिक देखी जाती हैं और ऐसे मामलों की पहचान भी तेजी से हो रही है। इस वजह से भी इंसुलिन की उपयोगिता बढ़ती जा रही है। ये आंकड़े इसलिए चिंताजनक हैं क्योंकि अधिकतर भारतीयों को डायबिटीज के इलाज के लिए बहुत ज्यादा खर्च करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि भारत में चिकित्सकों को ध्यान रखना चाहिए कि केवल अधिक महंगी और नई इंसुलिन तथा दवाएं हमेशा बेहतर नहीं होती और पुरानी दवाएं तथा इंसुलिन भी सही तरीके से इस्तेमाल में लाए जाएं तो प्रभावी हो सकते हैं। जिनके पास धन की कमी है, उनके लिए इस बात का ध्यान रखा जाना चाहिए। डॉ मिश्रा ने अपने अध्ययन के आधार पर नई दवाओं की बिक्री और विपणन के नियमों के संदर्भ में दवाओं के दामों पर नियंत्रण, डॉक्टरों में जागरूकता और फार्मास्टयुटिकल कंपनियों के लिए सख्त नियमों का सुझाव दिया है।
और ख़बरें >

समाचार

MAHA MEDIA NEWS SERVICES

Sarnath Complex 3rd Floor,
Front of Board Office, Shivaji Nagar, Bhopal
Madhya Pradesh, India

+91 755 4097200-16
Fax : +91 755 4000634

mmns.india@gmail.com
mmns.india@yahoo.in