महामीडिया न्यूज सर्विस
बांधवगढ़ में दिखाई दी दुर्लभ एशियाई बिल्ली

बांधवगढ़ में दिखाई दी दुर्लभ एशियाई बिल्ली

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 186 दिन 14 घंटे पूर्व
17/04/2017
 भोपाल.डमी मां के सहारे तीन अनाथ बाघ शावकों के पलाने के बाद बांधवगढ़ नेशनल पार्क एक बार फिर सुर्खियों में आ गया है। यहां पर एक विलुप्त हो रही प्रजाति की एशियाटिक वाइल्ड केट कैमरे में कैप्चर हुई है। इस केट का नाम इंटरनेशनल यूनियन फॉर कंजरवेशन ऑफ नेचर (आईयूसीएन) की लिस्ट में शामिल है, ताकि इसका संरक्षण हो सके।बांधवगढ़ नेशनल पार्क के डायरेक्टर मृदुल पाठक ने बताया कि मॉनिटरिंग के दौरान लगाए गए ट्रैप कैमरे में एशियाई जंगली बिल्ली कैप्चर हुई है। यह रेगिस्तानी इलाके में पाई जाती थी, लेकिन अब इसे लुप्त प्रजाति की कैटेगरी में रखा गया है।पाठक ने बताया कि कैमरे में एशियाटिक वाइल्ड केट के साथ उसके दो शावक भी कैप्चर हुए हैं। उन्होंने बताया कि टाइगर रिजर्व के बफर जोन में 820 स्क्वायर किमी में 35 कैमरे लगाए गए थे, ताकि पता लगाया जा सके कि टाइगर रिजर्व में कितनी प्रजाति के वन्य प्राणी पाए जाते हैं। जब यह केट कैप्चर हुई तो किसी को विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बांधवगढ़ में दिखाई देगी। उन्होंने बताया कि बांधवगढ़ की टोपोग्राफी इसके लिए है ही नहीं। उन्होंने बताया कि बांधवगढ़ की टोपोग्राफी मध्यम तरह की है न बहुत आर्द्रता है और न ही सूखा। उनका कहना है कि यह कैट विशुद्ध रूप से रेगिस्तानी इलाके पाई जाती थी। वह भी विलुप्त हो रही है।एशियाई वाइल्ड केट (फेलिस सल्वेस्टिस ओरनाटा) एक वाइल्ड केट उप प्रजाति है। जो पूर्वी कैस्पियन उत्तर से कजाकिस्तान तक, पश्चिमी चीन और दक्षिणी मंगोलिया में होती है। भारत में वर्ष 1999 राजस्थान के थार इलाके में देखी जाती थी, लेकिन वर्ष 2000 से 2006 तक उसकी चार बार साइटिंग हुई है। इसके बाद वह दिखना बंद हो गई है।

और ख़बरें >

समाचार