महामीडिया न्यूज सर्विस
तीस्ता सीतलवाड़ की खाते डिफ्रीज करने की याचिका खारिज

तीस्ता सीतलवाड़ की खाते डिफ्रीज करने की याचिका खारिज

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 646 दिन 3 घंटे पूर्व
15/12/2017
नई दिल्ली[ MAHAMEDIA] 2002 के गुजरात दंगों में गुलबर्ग सोसाइटी में पीड़ितों के लिए मेमोरियल बनाने के लिए चंदे में हेरफेर की आरोपी सामाजिक कार्यकर्ता तीस्ता सीतलवाड़ और उनके ट्रस्ट के बैंक फ्रीज करने का मामले में सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया है कि खाते दोबारा शुरू नहीं किए जाएंगे.  25 जुलाई को तीस्ता और उनके पति जावेद आनंद की खातों को फिर से खोलने की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था. सुनवाई के दौरान तीस्ता की ओर से सुप्रीम कोर्ट में गुजरात सरकार पर सवाल उठाए गए. तीस्ता के वकील कपिल सिब्बल ने कहा कि गुजरात पुलिस उन पर बेवजह दबाव बना रही है. ये सरकार का दुर्भावनापूर्ण कदम है. सरकार इस निचले स्तर पर पहुंचेगी कभी नहीं सोचा था. सात सालों में 7870 रुपये के खर्च को सरकार बढ़ा-चढ़ाकर बता रही है. इन बिलों में शराब के चंद रुपये थे लेकिन सरकार ऐसे बता रही है जैसे लाखों रुपये खर्च कर दिए हों.
और ख़बरें >

समाचार