महामीडिया न्यूज सर्विस
मकर संक्रांति और उत्तरायण का महत्व

मकर संक्रांति और उत्तरायण का महत्व

admin | पोस्ट किया गया 583 दिन 2 घंटे पूर्व
13/01/2018
भोपाल (महामीडिया) देश के प्रमुख त्योहारों में से एक मकर संक्रांति 14 जनवरी को मनाई जाती है. लेकिन कभी-कभी ये त्योहार 13 या 15 जनवरी को भी हो सकता है. यह इस बात पर निर्भर करता है कि सूर्य कब धनु राशि को छोड़ मकर राशि में प्रवेश करता है. इस दिन से सूर्य की उत्तरायण गति की शुरुआत होती है, इसी वजह से इसको 'उत्तरायणी' भी कहते हैं. आइए जानते हैं, भारतीय समाज में आखिर क्यों मकर संक्रांति का इतना महत्त्व है. कहा जाता है कि इस दिन भगवान विष्णु ने असुरों का संहार कर लंबे समय से देवताओं और असुरों के बीच जारी युद्ध के समाप्ति की घोषणा की थी. साथ ही सभी असुरों के सिरों को मंदार पर्वत में दबा दिया था. इस तरह यह दिन बुराइयों और नकारात्मकता को खत्म करने का दिन भी माना जाता है. यह भी कहा जाता है कि गंगाजी को धरती पर लाने वाले राजा भगीरथ ने अपने पूर्वजों के लिए इस दिन तर्पण किया था. मकर संक्रांति के दिन ही गंगाजी राजा भगीरथ के पीछे-पीछे चलकर कपिल मुनि के आश्रम से होकर सागर में जा मिली थीं. इसलिए मकर संक्रांति पर देश भर में कई जगहों पर गंगा किनारे गंगा सागर में मेला लगता है. यशोदा जी ने जब कृष्ण जन्म के लिए व्रत किया था, तब सूर्य देवता उत्तरायण हो रहे थे और उस दिन मकर संक्रांति थी. कहा जाता है तभी से मकर संक्रांति व्रत का प्रचलन शुरू हुआ. महाभारत में भी इसी दिन का उल्लेख किया गया है, क्योंकि भीष्म पितामह ने मकर संक्रांति के दिन प्राण त्यागे थे और मोक्ष प्राप्त किया था. इससे पहले वे बाणों की शैया पर कष्ट सहते हुए उत्तरायण का इंतजार करते रहे. मान्यता है कि दक्षिणायन अंधकार की अवधि है, इसलिए उस वक्त मृत्यु होने पर मनुष्य को  मुक्ति नहीं मिलती. वहीं, सूर्यदेव का उत्तरायण होना शुभ माना जाता है, क्योंकि यह प्रकाश की अवधि होती है. इसलिए भीष्म पितामह ने शरीर त्याग करने के लिए इसी दिन को सबसे उपयुक्त माना. इस पर्व से जुड़ी एक पुरानी मान्यता यह भी है कि इस दिन भगवान सूर्य अपने बेटे शनि से मिलने स्वयं उसके घर जाया करते हैं. चूंकि शनिदेव मकर राशि के स्वामी हैं, इसलिए इस दिन को मकर संक्रांति के नाम से जाना जाता है.
और ख़बरें >

समाचार